कैडबरी और फाइव स्टार से भी ज़्यादा मशहूर थीं ये 10 टॉफियां, बचपन याद आ जाएगा

Updated on 28 Aug, 2018 at 3:43 pm

Advertisement

हर बच्चे को चॉकलेट और टॉफियां बहुत पसंद होती है। आजकल के बच्चों को तो कैडबरी और फाइव स्टार जैसी महंगी और ब्रांडेड चॉकलेट्स मिलती हैं, लेकिन हमारे ज़माने यानी 90 के दशक के बच्चे तो एक दो रुपए वाली टॉफी से ही खुश हो जाते थे। कुछ टॉफियां ऐसी थीं जो हर बच्चे की फेवरेट हुआ करती थी। कहीं से एक-दो रुपए मिले नहीं कि वो झट से टॉफी खरीद लाते थे। चलिए आपको बताते हैं आपके बचपन की कुछ टॉफियों के बारे में ताकि आपकी भी सुनहरी यादें ताज़ा हो जाए।

 

पान पसंद

 

पान की फ्लेवर वाली ये टॉफी कभी बहुत मशहूर हुआ करती थी। छोटी दुकानों पर ये मिलती तो आज भी है, मगर अब ये बच्चों की फेवरेट नहीं रह गई।


Advertisement

 

 

पोपिंस

 

अलग-अलग रंगों वाली ये टॉफी तो याद होगी ही आपको आप अपने भाई-बहन से कौन सा रंग चाहिए इसके लिए झगड़ बैठते थे। किसी-किसी दुकान पर आज भी पोपिंस मिल जाती है, लेकिन आजकल के बच्चों को ये पसंद नहीं आती।

 

 

बिग बबल

 

यह च्युइंग गम भी कभी बहुत लोकप्रिय था और बच्चे दिनभर इसे चबाकर बलून की तरह फुलाते रहते थे। आपको भी इस आदत की वजह से कभी न कभी घर पर डांट ज़रूर पड़ी होगी।

 

 

चोकी

 

कैडबरी की चोकी बच्चों की फेवरेट हुआ करती थी। पूरी तरह से चॉकलेटी ये टॉफी बच्चों को बहुत पसंद थी।

 

 

सेंटर शॉक

 

सेंटर शॉक का विज्ञापन याद होगा शायद आपको। हां, वही दिमाग की बत्ती जलाने वाला। ये च्युइंग गम 90 के दशक में टीनएजर्स के बीच बहुत लोकप्रिय था।

 

 



बूमर

 

बूमर भी लोकप्रिय च्युइंग गम में से एक था। इसका विज्ञापन भी काफी आकर्षक था, जिसे देखकर बच्चे खुश हो जाते थे। ये कई फ्लेवर में मिलता था।

 

 

चिकलेट्स

 

ये भी च्युइंम ही था। एक डिब्बे में छोटे-छोटे कई च्युइंग होते थे और एक दोस्त जैसे ही डिब्बा खोलता तो बाकी सब इकट्ठा हो जाते थे।

 

 

रिंग पॉप

 

अलग-अलग रंगों में मिलने वाली ये कैंडी कई तरह के फ्रूट फ्लेवर में भी उपलब्ध थी।

 

 

रोला कोला

 

कोला के फ्लेवर वाली ये टॉफी भी बच्चों के बीच बहुत लोकप्रिय थी। यह पोपिंस की तरह ही होती थी, मगर अलग-अलग रंग की बजाय एक ही रंग की होती थी।

 

 

स्वीट सिगरेट्स

 

बड़ों की देखा-देखी बच्चों का भी सिगरेट फूंकने का मन होता था तो स्वीट सिगरेट्स खरीद लाते थे। यह एक तरह की कैंडी होती थी।

 

 

इस सारी टॉफियों के नाम पढ़ते-पढ़ते आपके बचपन की कई सुनहरी यादें ताज़ा हो गई होंगी।

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement