बिहार में शराब पीना गैरजमानती, नया कानून लागू

author image
Updated on 2 Oct, 2016 at 4:38 pm

Advertisement

बिहार में 2 अक्टूबर यानी गांधी जयंती के दिन से नया शराबबंदी कानून लागू कर दिया गया है। नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल की बैठक के बाद इस बात की घोषणा करते हुए अधिसूचना जारी कर दी गई। राज्य में अब शराब पीना गैरजमानती होगा और इसमें सजा की अवधि 3 साल कर दी गई है।

गौरतलब है कि दो दिन पहले ही पटना हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए पुराने शराबबंदी कानून को अवैध बताते हुए इसे रद्द कर दिया था। बिहार सरकार इस हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने जा रही है।


Advertisement

नए कानून में प्रावधान है कि अगर किसी के घर में शराब मिली तो उस घर के 18 वर्ष से अधिक की उम्र के सभी सदस्यों को सजा होगी। शराबबंदी को पूरी तरह लागू करने के लिए विशेष अदालतों के गठन का भी प्रावधान है।

मंत्रिमंडल की बैठक के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शराबबंदी पर आए हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सरकार सुप्रीम कोर्ट जाएगी। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश से सरकार के कई फैसलों पर असर पड़ेगा, इसलिए सुप्रीम कोर्ट जाने के अलावा और कुछ किया नहीं जा सकता।

नीतीश कुमार ने आरोप लगाया कि हाईकोर्ट के फैसले के बाद विपक्ष का दोहरा चरित्र सामने आ गया है।

उन्होंने कहा कि अगर विपक्ष के पास कोई सुझाव है तो उस पर विचार किया जाएगा। लेकिन कोई अगर शराबबंदी फेल करने का सुझाव देगा तो उसे नहीं माना जाएगा।

नीतीश कुमार गांधी बनने चले हैंः रामविलास पासवान

बिहार में शराबबंदी कानून को लेकर केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला है। पासवान ने नीतीश कुमार पर प्रहार करते हुए कहा कि शराबबंदी के नाम पर नीतीश कुमार गांधी जी बनने चले हैं। पासवान ने आरोप लगाया है शराबबंदी के नाम पर सरकार गरीब और सेना के जवानों को जेल में बंद कर रही है। उन्होंने कहा कि राजग भी शराबबंदी के पक्ष में है, लेकिन शराबबंदी के नाम पर पब्लिक की नाकेबंदी नहीं होनी चाहिए।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement