नवरात्रि में मां दुर्गा के इन नौ रूपों की पूजा से दूर होते हैं सारे कष्ट

Updated on 11 Oct, 2018 at 8:37 am

Advertisement

शक्ति का स्वरूप मां दुर्गा की अराधना से भक्तों के सारे दुख दूर हो जाते हैं। नवरात्रि का पावन पर्व शुरू हो चुका है। इस पर्व में नौ दिनों तक देवी मां के अलग-अलग रूपों की अराधना की जाती है। देवी के नौ रूपों की वजह से ही इन्हें नवदुर्गा भी कहा जाता है। चलिए आपको बताते हैं देवी के नौ रूपों के बारे में।

मां शैलपुत्री

नवरात्रि के पहले दिन माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है। ये दुर्गा मां का पहला रूप है। अपने इस रूप में देवी मां ने पर्वतराज हिमालय की बेटी के रूप में जन्म लिया था, इसलिए उनका नाम शैलपुत्री पड़ा।

मां ब्रह्मचारिणी

दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की उपासना की जाती है। यहां ब्रह्म का अर्थ तपस्या से है। मां के इस रूप की उपासना से भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।


Advertisement

मां चंद्रघंटा

मां दुर्गा का यह तीसरा स्वरूप है। चंद्रघंटा मां की पूजा नवरात्रि के तीसरे दिन की जाती है। देवी के इस स्वरूप को शांतिदायक और कल्याणकारी माना जाता है।

मां कुष्माण्डा

नवरात्रि के चौथे दिन देवी कूष्मांडा की पूजा की जाती है। इसे देवी ने ब्रह्मांड को उत्पन्न किया था इसलिए इनका नाम कुष्मांडा पड़ा। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी और चारों ओर सिर्फ अंधेरा था तो इस देवी कुष्मांडा ने अपनी मंद मुस्कान से ब्रह्मांड की रचना की थी।

मां स्कंदमाता

देवी के इस रूप की पूजा पांचवें दिन होती है, इनके बारे में कहा जाता है कि ये पहाड़ों पर रहने वालों के जीवन में नई चेतना भर देती हैं। इनके पुत्र स्कंद कुमार कार्तिकेय थे, इसलिए इन्हें स्कंदमाता कहा जाता है।



मां कात्यायनी

नवरात्रि में छठे दिन मां कात्यायनी की उपासना की जाती है। रोग, दुख और डर मां कात्यायनी की कृपा से हमेशा दूर रहते हैं।

मां कालरात्रि

मां दुर्गा के सांतवें स्वरूप को मां कालरात्रि कहा जाता है। इस देवी के शरीर का रंग बिल्कुल काला और रूप भंयकर है। मां कालरात्रि दुष्टों का विनाश करती हैं।

मां महागौरी

नवरात्रि के आठवें मां महागौर की वंदना की जाती है। मां कालरात्रि के विपरित इनका रूप बहुत सुंदर है। इनके कपड़े और गहने सबकुछ सफेद रंग का होता है, इसलिए इन्हें श्वेताम्बरधरा भी कहा जाता है।

मां सिद्धिदात्री

नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना की जाती है। देवी का ये रूप सभी तरह की सिद्धियों को देने वाला है। पूरे विधि-विधान से मां की पूजा करे से भक्तों को सारी सिद्धियां मिल सकती हैं।

मां सिद्धिदात्री (maa siddhidatri)

jagran


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement