यह प्राकृतिक शिवलिंग दिन में कई बार बदलता है रंग

author image
Updated on 15 Dec, 2016 at 9:02 pm

Advertisement

क्या आपने ऐसे शिवलिंग के बारे में सुना है जो रंग बदलता हो। जी हां, हिमाचल प्रदेश में किन्नौर महादेव धाम स्थित प्राकृतिक शिवलिंग दिन में कई बार अपना रंग बदलता है। समुद्रतल से करीब 24 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित इस स्थान को कैलाश मानसरोवर के बाद दूसरा सबसे बड़ा कैलाश पर्वत माना जाता है। किन्नर कैलाश को भगवान शिव का शीतकालीन प्रवास स्थल माना जाता है।

प्रत्यक्षदर्शी कहते हैं कि किन्नौर का यह कैलाश पर्वत सूर्योदय से पूर्र सफेद, सूर्योदय के बाद पीला और मध्याह्न काल में लाल हो जाता है। इसके बाद यह पीला व सफेद हुए सांध्यकाल में काला हो जाता है। हालांकि यह अब तक रहस्य ही है कि आखिर ऐसा क्यों होता है।


Advertisement

स्थानीय लोग शिवलिंग के रंग बदलने की घटना को दैवीय चमत्कार मानते हैं। वहीं, कई विशेषज्ञ मानते हैं कि सूर्य की किरणों के विभिन्न कोणों में पड़ने के साथ ही यह चट्टान रंग बदलती नजर आती है।

किन्नर कैलाश में स्थित शिवलिंग की ऊंचाई है करीब 40 फुट तथा चौड़ाई 16 फुट। यहां की खासियत ब्रह्म कमल हैं, जो यहां हजारों की संख्या में मिलते हैं।

वर्ष 1993 से पहले यहां लोगों आने-जाने पर पाबंदी थी। लेकिन इसी साल से इस स्थान को आम लोगों के लिए खोल दिया गया।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement