NASA में है नौकरी की चाहत तो जान लीजिए कौन-सी योग्यता है ज़रूरी

Updated on 19 Sep, 2017 at 7:26 pm

Advertisement

अंतरिक्ष में और ब्रह्मांड को करीब से जानने-समझने की ख्वाहिश रखने वाला हर शख्स अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA में नौकरी की चाहत रखता है। NASA में नौकरी मिलना अपने आप मे बहुत बड़ी उपलब्धि मानी जाती है। हालांकि, यहां नौकरी पाना इतना आसान नहीं है। NASA में नौकरी मिलना कितना मुश्किल है इसका अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि हाल में नासा ने 12 लोगों को भर्ती किया है, जबकि आवेदन आए थे 18,300 लोगों के। तो समझ गए न आप कि NASA की कसौटी पर खड़ा उतरना कितना मुश्किल काम है.

NASA की प्लानिंग चांद और मंगल से कहीं आगे जाने की है, जिसके लिए ज़ाहिर सी बात है कि उसे मैन पावर चाहिए। यह अलग बात है कि वहां तो हमारा राजनीतिक आरक्षण काम नहीं आएगा कि किसी भी ऐरे –गैरे को भर्ती कर लिया। NASA को अपने लिए योग्य लोगों की तलाश और इसके लिए वहां भर्ती होने की प्रक्रिया भी काफी कठिन रखी गई है। यदि आप भी NASA में नौकरी का सपना देखते हैं तो आपको ये ज़रूरी बातें पता होनी चाहिए।

कैसे कर सकते हैं नौकरी के लिए अप्लाई

  • उम्मीदवार का साइंस, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग या मैथेमेटिक्स में ग्रैजुएट होना ज़रूरी है।
  • इसके अलावा पोस्ट ग्रैज्युएशन और उसी क्षेत्र में काम का अनुभव भी ज़रूरी है। कम से कम 1000 घंटे जेट उड़ाने का अनुभव भी अनिवार्य है।
  • उम्मीदवारों में लीडरशिप क्वालिटी, टीमवर्क और कन्युनिकेशन की क्षमता अच्छी होनी चाहिए।
  • शैक्षणिक योग्यता के अलावा फिज़िकली फिट होना भी ज़रूरी है। इसके अलावा उम्मीदवारों के धैर्य की परीक्षा भी ली जाती है, जाहिर सी बात ये आसान नहीं होता होगा।

पास होने के बाद ट्रेनिंग

यदि आप NASA की परीक्षा पास कर लेते हैं और उसकी सभी कसौटी पर खरा उतरते हैं तो आपको 2 साल की ट्रेनिंग दी जाती है और आपका मूल्यांकन किया जाता है। इस दौरान आपको बहुत पढ़ना पड़ता है और किसी तरह की कोई छुट्टी नहीं मिलती। इस ट्रेनिंग के दौरान असली मिशन के दौरान काम आने वाले स्किल (कौशल) सिखाए जाते हैं।


Advertisement

मिलता है अंतरिक्ष में जाने का मौका

दूसरे स्टेज की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद आपको स्पेसिफिक स्पेस ट्रेनिंग दी जाती है जिसमें आपको बताया जाता है कि स्पेश में जाने के बाद आप क्या करेंगे। कॉकपिट में आपको स्पेस सूट पहनकर जाना होता है। स्पेस में सिर्फ 6 महीने के भेजने से पहले एस्ट्रॉनॉट्स को दो से तीन साल की अतिरिक्त ट्रेनिंग दी जाती है।

करने होते हैं ये काम

स्पेस में जाने के बाद एस्ट्रॉनॉट को कई एक्सपेरिमेंटस्, रिसर्च और हार्डवेयर की रिपेयरिंग जैसे काम दिए जाते हैं। एस्ट्रोनॉट को सालाना 44.2 लाख रुपए से लेकर एक करोड़ रुपए तक की सैलरी मिलती है। थोड़ा अनुभव हो जाने के बाद सैलरी एक करोड़ रुपए से भी अधिक हो सकती है। अब इतनी कड़ी परीक्षा के बाद अगर कोई नासा तक पहुंचता है तो इतनी सैलरी पर तो वो इतनी सैलरी का तो हकदार है ही।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement