जरूरतमंदों की आवाज बन कर उभरे हैं नाना पाटेकर, विधवाओं को बांट रहे हैं सिलाई मशीन

author image
Updated on 14 Jul, 2016 at 12:44 pm

Advertisement

अगर बॉलीवुड की बात की जाए तो लगभग सारे ही अभिनेताओं ने आम आदमी के हक़ों या सामाजिक विषयों पर केंद्रित भूमिकाओं में सशक्त अभिनय किया होगा। इसमें उन्होंने आम आदमी या ज़रूरतमंद की आवाज़ बन कर लोगों के दिलों पर राज़ किया है, पर असल ज़िंदगी में ऐसा कम ही देखने को मिलता है।

रूपहले पर्दे पर जहां ऐसे सामजिक मुद्दों पर केंद्रित फिल्मों में उन्हें आम आदमी के बेहद करीब देखा जा सकता है, वहीं असल में उनकी ज़िंदगी बेहद चमक-धमक के साथ चकाचौंध कर देने वाली होती है।

उसी मायानगरी के गलियारों से एक बेहद सकरात्मक खबर आई है, जिससे इस अभिनेता के उदार व्यक्तित्व का तो पता चलेगा ही, साथ में आपके दिल को सुकून भी पहुंचाएगा कि नाम, शोहरत और चकाचौंध के बाद भी यह कलाकार हम आम आदमी के बीच का ही है।

bollywoodyou

bollywoodyou


Advertisement

क्रांतिवीर जैसी फिल्म बनाने वाले नाना पाटेकर के उदार-भाव की आजकल प्रशंसा हो रही है। उन्होंने ग़रीबों के लिए जो एक मुहिम छेड़ी है, उसको लेकर उन्हें जमकर सराहा भी जा रहा है।

नाना पाटेकर ने हाल ही में एक स्कीम निकाली है, जिसकी मदद से विधवा महिलाओं को सिलाई की मशीन प्रदान की गई है। यही नहीं, उन्होने जरूरतमंदों से यह आग्रह भी किया है कि अगर उन्हें किसी प्रकार की मदद चाहिए, तो वे बेफ़िक्र उन्हें कॉल कर सकते हैं।



यह पहली बार ऐसा नहीं है कि नाना पाटेकर ने अपने इस उदार भाव से लोगों का दिल जीता है। आपको बता दें कि पहले भी उन्होंने फसल खराब हो जाने की स्थिति में परेशान किसानों तक खुद चल कर उनकी हर संभव मदद की है।

कभी न रोए कोई महिला और किसान

नाना पाटेकर ने देश की जनता से अपील करते हुए कहा कि ‘अगर कोई गरीब है, खाना तक नसीब नहीं होता, तो मुझे मदद के लिए पुकारे, मुझसे जो होगा में जरूर करूंगा। नाना चाहते हैं कि कोई भी गरीब खुदखुशी न करे।

नाना पाटेकर साहब मैं आपको दिल से सलाम करता हूँ। आपने अपने अभिनय से तो हमें कायल बनाया ही था। साथ में समाज से बेबसी और ग़रीबी मिटाने का जो जिम्मा आपने उठाया है, उससे आप भारत के दिल में सदियों-सदियों तक ज़िंदा रहेंगे।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement