Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

इस झील में पड़ा है अकूत ‘खजाना’, निकालने की हिम्मत कोई नहीं करता

Published on 3 February, 2016 at 12:01 am By

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के जिला मुख्यालय से तकरीबन 60 किलोमीटर दूर ‘रोहांडा’ नामक स्थान में सुदूर घने पहाड़ों के बीच स्थित “कमरूनाग” झील अपनी दिव्यता और ‘अकूत’ खजाने के लिए काफी चर्चित है। माना जाता है की यहां पौराणिक काल से लगातार सोने-चांदी और अन्य जवाहरातों सहित काफी सारा धन डाला जाता रहा है। यह झील के गर्त में इकठ्ठा होकर ‘खजाने’ का रूप ले चुका है।

बाबा ‘कमरूनाग’ करते हैं झील की रक्षा


Advertisement

प्राचीन मान्यता है कि इस झील में सोना और अन्य रत्न डालने से भक्तों की सारी मन्नतें पूरी होती हैं। माना जाता है की ‘खजाना’ सीधा पाताल की ओर जाता है, जहां देवताओं का खजाना है। इसकी रक्षा किसी जीवित व्यक्ति द्वारा नहीं, बल्कि पहाड़ों में बारिश के देवता के रूप में पूजे जाने वाले बाबा ‘कमरूनाग’ और उनके सेवकों द्वारा की जाती है।

मान्यता है कि जिसने भी इसे निकालने की कोशिश की, उसका समूल नाश हो गया। यही कारण है कि इसे निकालने का दुःसाहस कोई नहीं करता।

झील और कमरूनाग का महाभारत काल से है संबंध

महाभारत में ‘कमरूनाग’ को बभ्रुवाहन कहा गया है। अतुलित बलशाली और अजेय बभ्रुवाहन अर्जुन के पुत्र थे, लेकिन उन्होंने युद्ध में अपने पिता का साथ नहीं दिया। उनका प्रण था कि वे युद्ध में हार रही सेना का ही साथ देंगे और इसलिए वे युद्ध में किसी के पक्ष में जाने का फैसला युद्ध के बीच में करेंगे।



भगवान् कृष्ण ने बड़ी कुटिलता से उन्हें एक शर्त में हरा दिया और उनसे अपनी ‘गर्दन’ काट कर देने को राजी कर लिया, क्योंकि उनका युद्ध में भाग लेना पांडवों की हार का कारण बन सकता था। उनके कटे सर को महाबली भीम ने एक विशाल पत्थर में बांधकर पांडवों की तरफ घुमा दिया, जिससे पांडवों की सेना युद्ध में जीत हासिल कर सकी।

उनके ‘मस्तक’ के समीप इस झील का निर्माण महाबली भीम ने किया था।

पहाड़ों के प्रमुख देवता हैं ‘कमरूनाग’

दुर्गम वन और पहाड़ों के बीच स्थित इस झील के बगल में भगवान “कमरुनाग” का एक भव्य मंदिर है। पहाडी लोगों में बाबा ‘कमरूनाथ’ के प्रति अगाध श्रद्धा है। “कमरूनाथ” वर्षा के देवता माने जाते हैं।


Advertisement

हर साल जून के महीनें की 14 व 15 तारीख को यहां बाबा कमरूनाथ भक्तों को दर्शन देते हैं। पूरे आषाढ़ महीने में यहां भव्य मेले का आयोजन किया जाता है, जिसके दौरान भक्त अपना कुछ रुपया-पैसा और अन्य कई आभूषण बाबा ‘कमरूनाथ’ के निमित्त झील को अर्पित करते हैं।


Advertisement

यह परम्परा सदियों से चली आ रही है, जिसके कारण झील के गर्त में ‘भारी’ रत्नसंपदा इकठ्ठा हो गई है।

Advertisement

नई कहानियां

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग


Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Culture

नेट पर पॉप्युलर