इस चमत्कारी पत्थर को नहीं हिला सकी थी 7 हाथियों की शक्ति, वैज्ञानिक भी मानते हैं रहस्यमय

author image
Updated on 3 Dec, 2016 at 4:07 pm

Advertisement

दुनिया में कई ऐसी चमत्कारी और रहस्यमयी चीजें आज भी मौजूद हैं, जिनकी गुत्थियां अब तक अनसुलझी हैं। ऐसा ही एक रहस्य भारत में भी मौजूद है, जिसे वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा सके हैं।

यह रहस्य है करीब 1200 साल पुराना पत्थर, जो ढलान पर होते भी लगातार अपने स्थान पर बना हुआ है।

किम्वदन्तियों के मुताबिक, इस पत्थर को सात हाथियों से खिंचवाया गया था, इसके बावजूद इसे ईन्च भर भी अपने स्थान से खिसकाया नहीं जा सका। यह पत्थत दक्षिण भारत के महाबलिपुर में मौजूद है।

ढलान पर मौजूद 20 फीट ऊंचे और 5 फीट चौड़े इस पत्थर के बारे में सबसे पहले वर्ष 1908 में पता चला था। तत्कालीन गवर्नर को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने संभावित खतरे को देखते हुए इस पत्थर को अपने स्थान से हटाकर नीचे लाना चाह। इसके लिए सात हाथियों को काम पर लगाया गया, लेकिन इस पत्थर को अपने स्थान से खिसकाया नहीं जा सका।



jagranjunction

jagranjunction


Advertisement

स्थानीय लोग मानते हैं कि यह पत्थर दरअसल भगवान कृष्ण का जमा हुआ मक्खन का गोला है। यही वजह है कि इसे स्थानीय लोग ‘कृष्ण की मक्खन की गेंद’ कहते हैं।

वैज्ञानिकों का समूह अब तक इस बात का निर्धारण नहीं कर सका है कि आखिर यह है क्या। इन्सान द्वारा खड़ा किया गया या फिर प्रकृति प्रदत्त चीज।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement