पिछले 26 सालों से मुसलमान कर रहे हैं इस मंदिर की रखवाली, नहीं आने देते कोई आंच

author image
4:11 pm 19 Sep, 2018

Advertisement

उत्तर प्रदेश में एक जगह ऐसी है जो गंगा-जमुनी तहज़ीब की बेहद ही खूबसूरत तस्वीर पेश करती है। मुजफ्फरनगर शहर में लड्डेवाला की ओर जाने वाली सड़क से लगभग एक किलोमीटर दूर एक हिंदू मंदिर है। इस इलाके के हिन्दू परिवार अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद दंगों के चलते इस जगह को छोड़कर चले गए। तब से यहां रह रहे मुस्लिम परिवार ही पिछले 26 सालों से इस मंदिर की हिफ़ाज़त कर रहे हैं।

 

 


Advertisement

खबरों के मुताबिक, इस मंदिर का निर्माण 1970 के आसपास किया गया था। 1990 के शुरुआती दशक तक यहां पर 20 हिंदू परिवार रहते थे। लेकिन 90 के दशक में विवादीत बाबरी ढांचा गिराए जाने के बाद हो रहे सांप्रदायिक संघर्ष के कारण यहां रहने वाले हिंदू परिवारों ने ये जगह छोड़ दी थी। तब से लेकर आज तक यहां रोज साफ-सफाई की जाती है और हर साल दीपावली पर मंदिर की रंगाई-पुताई भी होती है। इतना ही नहीं आवारा जानवरों और कब्जा करने वाले लोगों से भी इन मुस्लिम परिवारों ने यह जगह बचा कर रखी है।

 

आपको बता दें कि फिलहाल इस इलाके में 35 मुस्लिम परिवार रहते हैं। कभी यहां रहने वाले हिंदुओं की मुस्लिमों से बहुत अच्छी दोस्ती थी और उन्हे आज भी उम्मीद है कि सांप्रदायिक संघर्ष की वजह से जो हिंदू यह जगह छोड़कर चले गए थे, वह एक दीन लौटेंगे और दोस्ती वाले पुराने दिन वापस आएंगे।

 

Muslims in hindu temple - हिन्दू मंदिर में मुसलमान

मंदिर का रंग-रोगन करते एक स्थानीय scoopwhoop

 



दोस्ती के उन पुराने दिनों को याद करते हुए इलाके के 60 वर्षीय मेहरबान अली की आंखों में आंसू आ जाते हैं। भरे गले से अपने मित्र को याद करते हुए वो कहते हैं-

 

“जितेंद्र कुमार मेरे सबसे करीबी दोस्तों में से एक था, जो इस जगह को छोड़कर चला गया। तनाव के बावजूद मैंने उसे रोकने की बहुत कोशिश की, लेकिन फिर भी अन्य परिवारों के साथ कुछ दिन बाद वापस आने के वादे के साथ वह चला गया। तब से यहां के निवासी ही इस मंदिर का ख्याल रख रहे हैं ”

 

Muslims takes care of hindu temple - हिन्दू मंदिर की रखवाली करते हैं मुसलमान

मुजफ्फरनगर के ही ननहेदा गांव में 59 वर्षीय हिंदू राजमिस्त्री एक 120 साल पुराने मस्जिद की देखभाल करते हैं। thelogicalindian

 

हालांकि, इस मंदिर में अभी कोई मूर्ति नही है। स्थानीय लोग बताते हैं कि 1992 से पहले यहां एक मूर्ति स्थापित थी। जब हिंदू परिवार यहां से जाने लगे, तब मूर्ति भी अपने साथ ले गए। आपको बता दें कि मुजफ्फरनगर के ही ननहेदा गांव में 59 वर्षीय हिंदू राजमिस्त्री एक 120 साल पुराने मस्जिद की देखभाल करते हैं। जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर दूर स्थित इस

गांव में एक भी मुस्लिम परिवार नहीं रहता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement