मुसलमानों ने हनुमान मंदिर के लिए दान दी अपनी जमीन, निर्माण कार्य में भी बंटाया हाथ

author image
Updated on 10 Apr, 2017 at 6:54 pm

Advertisement

बिहार के बेगूसराय जिले के बखरी क्षेत्र के मुस्लिम परिवारों ने एक हनुमान मंदिर के पुनर्निर्माण में सहयोग कर सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल पेश की है। यह मंदिर हिन्दू-मुस्लिम एकता का बेहतरीन उदहारण है।

बखरी के शहीद चौक पर स्थापित प्राचीन हनुमान मंदिर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था। जगह की कमी के कारण भी श्रद्धालुओं को यहां पूजा-पाठ करने में परेशानी का सामना करना पड़ता था। ऐसे में अपने हिन्दू भाइयों की परेशानी को समझते हुए मुस्लिम परिवार के लोगों ने अपनी ओर से पहल कर अपनी जमीन का एक हिस्सा मंदिर को दान के रूप में दे दिया।

इस मंदिर के लिए मुस्लिम परिवारों ने न केवल अपनी जमीन दान में दी, बल्कि अपनी क्षमता के अनुरूप आर्थिक मदद भी की।

जमीन मिलने के बाद मंदिर के विस्तार और पुनर्निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। अब मुस्लिम परिवार मंदिर के निर्माण में अपना श्रमदान भी दे रहे हैं।

temple

ndtvimg


Advertisement

बेगूसराय के पुलिस अधीक्षक रंजीत कुमार मिश्र ने कहाः



“बखरी के लोगों ने राज्य में ही नहीं, पूरे देश में सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश की है। उन्होंने एक अनोखा उदाहरण पेश किया है।”

आपको बता दें कि रामनवमी के मौके पर यहां फिर से पूजा-पाठ शुरू की गई। मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के वक्त मुसलमानों ने भी हिन्दू देवताओं की श्रद्धापूर्वक पूजा अर्चना कर प्रसाद ग्रहण किया।

mandir

eenaduindia


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement