मुस्लिम महिला ने हिन्दू बुजुर्ग का किया अंतिम संस्‍कार, बेटे ने कर दिया था मना

author image
Updated on 7 Jul, 2016 at 9:32 pm

Advertisement

तेलंगाना में एक बेटे ने अपने बाप को अग्नि देने से मना कर दिया तो एक मुस्लिम महिला ने उसका हिंदू रीति-रिवाज से अंतिम संस्कार किया। यह घटना वारंगल जिले की है। 70 वर्षीय बुजुर्ग कीर्ति श्रीनिवास वृद्ध आश्रम में रहते थे।

वृद्ध आश्रम के केयरटेकर याकूब बी ने उनके बेटे को निधन की जानकारी दी। लेकिन उनके बेटे ने साफ तौर पर आने से इंकार कर दिया।

इंकार किये जाने की वजह दिल को तार तार कर देती है। बुजुर्ग के बेटे ने याकूब बी से कहा कि उसने ईसाई धर्म अपना लिया है और अब नया धर्म उसे  हिन्दू रिवाज के पालन करने की इजाजत नहीं देता, इसलिए वह अपने पिता का अंतिम संस्कार नहीं करेगा।

आखिरकार फिर खुद मुस्लिम महिला ने एक बेटे का फर्ज निभाते हुए, उन्हें मुखाग्नि दी।

याकूब बताती है कि करीबन दो साल पहले उन्हें श्रीनिवास एक बस स्टैंड के पास गम्भीर हालत में मिले थे। उनके शरीर के ज्यादातर हिस्सों में लकवा मार गया था, जिसके बाद उन्हें वृद्ध आश्रम लाया गया।


Advertisement

केयरटेकर याकूब बी ने कहा:

“श्रीनिवास मेरे पिता की तरह थे। धर्म का हवाला देकर एक बेटे ने जो किया, वो शर्मनाक है।”

श्रीनिवास पहले टेलर का काम करते थे, लेकिन बीमार होने पर उनके बेटे-बहू ने उन्हें घर से बाहर निकाल दिया था।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement