कई चेतावनी के बावजूद सोता रहा था रेल मंत्रालय और दुर्घटना हो गई

Updated on 30 Sep, 2017 at 2:03 pm

Advertisement

मुंबई में परेल-एलफिंस्टन के बने पुल पर मचे भगदड़ के बाद हुए हादसे में मृतकों की संख्या 22 हो गई है। इस घटना में 30 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

जिल पुल पर यह हादसा हुआ है वह दशकों पुराना है और इस पर किसी भीषण हादसे की चेतावनी लंबे समय से दी जा रही थी। दैनिक यात्रियों को अंदेशा था कि यहां किसी भी वक्त बड़ा हादसा हो सकता था और यह अंदेशा वाकई सच निकला। माना जा रहा है कि अगर सरकार सही वक्त पर चेत गई होती तो यह हादसा रोका जा सकता था।

सरकार को हादसे की चेतावनी देने वाले ट्वीट्स कुछ इस तरह हैं।

वरिष्ठ व्यंग्य चित्रकार मंजुल ने भी हादसे की आशंका व्यक्त की थी।

खास बात यह है कि ट्विटर पर रेल मंत्रालय और तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट कर इस बात की चेतावनी दी जा रही थी। रेल में यात्रियों की छोटी-छोटी जरूरतों को ट्वीट के माध्यम से पूरा करने वाले रेल मंत्रालय से ऐसी बड़ी चूक कैसे हो गई, यह जांच का विषय है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement