कानून के हाथ लंबे होते हैं, तभी तो भगोड़े को वाशिंग मशीन के अंदर से खोज निकाला

Updated on 31 Dec, 2017 at 11:22 am

Advertisement

क़ानून के हाथ लंबे होते हैं, ऐसा यूं ही नहीं कहा जाता। पुलिस अपराधियों को जहां-तहां दबोचती रही है, लेकिन कुछ मामले ऐसे होते हैं, जो पुलिस के लिए भी चुनौती पेश कर देते हैं। 15 साल से फरार एक अपराधी ने मुंबई पुलिस को खूब छकाया, जिसके बाद अदालत ने उसे भगोड़ा घोषित कर दिया।

दरअसल, मनोज तिवारी नामक शख़्स ने पुलिस से बचने के लिए अनोखी तरकीब निकाल रखी थी। और वह सालों अपने तरकीब में सफल भी रहा था। हालांकि, पुलिस से बचाने में उसका साथ उसके घर के लोग भी देते रहे थे। पुलिस भी कहां मानने वाली थी, उसने उसे घर से ही दबोच निकाला।

बताया जा रहा है कि पुलिस ने 54 वर्षीय मनोज को वाशिंग मशीन से निकालकर गिरफ्तार कर लिया। घर की तलाशी लेने जब पुलिस पहुंची तो आरोपी के वकील और पत्नी ने तलाशी से मना किया। पुलिस ने तीन घंटे तक आरोपी के घर के बाहर इंतज़ार किया। आखिर में घर में दाखिल होकर फरार अपराधी को वाशिंग मशीन के अंदर कपड़ों में छुपा पाया।


Advertisement

पुलिस के अनुसार, साल 2002 में आरोपी मनोज बीएड में दाखिले को लेकर तीन लोगों से करीब 1-1 लाख रुपये लेकर भाग गया था। लिहाजा उस पर ठगी का मामला चल रहा था और वो भागा-भागा फिर रहा था। पुलिस उसके अजीबोगरीब तरकीब की वजह से उसे गिरफ्तार करने में बार-बार असफल हो जाती थी।

आज़ाद मैदान पुलिस स्टेशन के वरीष्ठ पुलिस निरीक्षक वंसत खरे ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि अदालत से भगोड़ा घोषित करने के बाद पुलिस मनोज की लगातार तलाश कर रही थी।

अब सरकारी काम में रुकावट डालने पर मनोज की पत्नी के ख़िलाफ़ भी मामला दर्ज किया गया है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement