बहराइच के जंगल में मिली ‘मोगली गर्ल’, आवाज और व्यवहार बिल्कुल जानवरों जैसा

author image
Updated on 7 Apr, 2017 at 5:31 pm

Advertisement

आपने मोगली की कहानी सुनी ही होगी कि कैसे एक इंसानी बच्चा जंगल में जानवरों के बीच रहकर उनमें घुल-मिल जाता है। क्या कभी आप सोच सकते हैं कि असल जिंदगी में भी एक इंसानी बच्चा ऐसे ही वातावरण में पला बढ़ा हो। जी हां, ऐसा हुआ है नेपाल की तराई से सटे यूपी के जिले बहराइच में। यूपी के बहराइच में ऐसी ही बच्ची मिली है, जिसे ‘मोगली’ जैसा बताया जा रहा है।

पुलिस को यह बच्ची घने जंगलों में मिली, जिसका व्यवहार जानवरों से काफी मिलता-जुलता है। बच्ची की उम्र 8 साल के आस-पास की बताई जा रही है।

इस बच्ची के बारे में पुलिस को तब पता चला जब सब इंस्पेक्टर सुरेश यादव कतर्नियाघाट के जंगल के मोतीपुर रेंज के आस पास नियमित गश्त पर निकले हुए थे। तभी उनकी नजर इस बच्ची पर पड़ी। उन्होंने देखा कि बच्ची बंदरों के झुंड से घिरी हुई थी। बच्ची को बचाने के लिए मौके पर पुलिस की टीम पहुंची।

जब पुलिसकर्मी उस बच्ची को अपने साथ लाने का प्रयास करने लगे, तो सभी बंदर नाराज होगा। उन्होंने ऊधम मचाना शुरू कर दिया। यहां तक कि खुद बच्ची भी पुलिसकर्मियों को देख बंदरों की तरह चीखने लगी।

आखिरकार, काफी मशक्कत के बाद पुलिसकर्मी उसे अपने साथ ले जाने में कामयाब रहे और उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया।



अस्पताल में बच्ची का इलाज चल रहा है। बहराइच जिला अस्पताल के डॉक्टर्स कह रहे हैं कि बच्ची डॉक्टरों और दूसरे लोगों को देखते ही चिल्लाती है। हाथ के बजाय मुंह से खाना खाती है। यहां तक कि उसे कपड़े पहनना तक नहीं आता।

बच्ची जंगल में बिना कपड़ों के बंदरों के बीच पाई गई थी। बच्ची के बाल और नाखून बढ़े हुए थे और शरीर पर कई जगह जख्म थे। अब पुलिस बच्ची के माता-पिता की तलाश में जुटी है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement