फिर दिखी MNS कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी, गैर मराठियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

author image
Updated on 11 Oct, 2017 at 4:55 pm

Advertisement

मराठी-गैर मराठी की राजनीति करने वाली राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के कार्यकर्ताओं पर उत्तर भारतीयों पर हमले करने का आरोप लगा है। इसे जुड़ा एक विडियो सामने आया है। इस विडियो में दावा किया जा रहा है कि महाराष्ट्र के सांगली में MNS के कार्यकर्तायों ने दर्जनों उत्तर भारतीय फेरीवालों के साथ पिटाई की और तोड़फोड़ भी की।

बताया जा रहा है कि MNS के कार्यकर्ता हाथ में लाठी लेकर सड़कों पर उतरे और सामने जो भी उत्तर भारतीय दिखा, उसकी बेरहमी से पिटाई करने लगे। जिनके साथ मारपीट की जा रही है उनसे पहले उनका नाम पूछा जा रहा है। खास तौर पर उत्तर भारतीय फेरीवालों को ही निशाना बनाया गया। इस मामले के बारे में पुलिस को सूचित किया जा चुका है। पुलिस ने केस दर्ज भी कर लिया है, लेकिन अभी तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है।

यहां देखें इस घटना का विडियो:



MNS के कार्यकर्ताओं ने सांगली में अपनी इस मुहिम को ‘लाठी चलाओ भैय्या हटाओ’ नाम दिया है। इसके तहत गैर मराठियों को इस इलाके से दूर करना है। अपनी इस हिंसा का समर्थन कर रहे इन कार्यकर्ताओं का कहना है कि सांगली स्थित एमआईडीसी में गैर मराठियों को नौकरी दी जा रही है। पार्टी ने 80 फीसदी सीटों पर केवल मराठियों की भर्ती की मांग की है।

MNS के गैर मराठियों पर हमला करने की यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी कई बार MNS के कार्यकर्ता उत्तर भारतीयों और अन्य गैर मराठियों को निशाना बनाते रहे हैं।

2008 में पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उत्तर प्रदेश और बिहार से आए लोगों पर हमले किए थे। सितंबर 2016 में भी MNS कार्यकर्ताओं ने मुंबई के घाटकोपर इलाके में एक गैर मराठी शख्स से फल की रेहड़ी न लगाने देने को लेकर मारपीट की थी।

इसके साथ हाल ही में MNS ने गुजराती भाषियों के खिलाफ भी आंदोलन छेड़ा था। इसके तहत दादर और माहिम इलाके में कई दुकानों के गुजराती भाषा में लगे बोर्ड जबरन हटा दिए गए थे। पुलिस ने बोर्ड हटाने वाले MNS के सात कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया था।

mns

dnaindia


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement