बेंगलुरु की इस छात्रा के नाम पर होगा एक ग्रह का नाम, अंतरराष्ट्रीय मंच पर जीता गोल्ड मेडल

author image
Updated on 9 Jun, 2017 at 6:17 pm

Advertisement

बेंगलुरु की 12वीं कक्षा की छात्रा सहिथी पिंगली के नाम पर एक ग्रह का नाम रखा जाएगा। सहिथी ने दुनिया के सबसे बड़े और सबसे प्रतिष्ठित प्री कॉलेज विज्ञान प्रतियोगिताओं में से एक इंटेल इंटरनेशनल साइंस एंड इंजिनियरिंग फेयर (Intel ISEF) में गोल्ड मेडल हासिल करके देश का नाम रोशन किया है।

winner

सहिथी को यह मेडल झीलों पर किए गए अपने शोध ‘एन इनोवेटिव क्राउडसोर्सिंग एप्रोच टू मॉनिटरिंग फ्रेश वॉटर बॉडीज’ के लिए मिला। सहिथी ने अपने स्कूल टीम के साथ मिल कर विशेष रूप से बेंगलुरु की वर्थुर झील पर रिसर्च किया था।

इसी रिसर्च का परिणाम है कि मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (MIT) की लिंकन लैबरेटरी ने एक ग्रह का नाम सहिथी के नाम पर रखने का फैसला किया है। आपको बता दे कि छोटे ग्रहों का नाम रखने का अधिकार लिंकन लैबरेटरी के पास है।


Advertisement

winner

Intel ISEF इंटरनेशनल फाइनल में, सहिथी ने तीन विशेष अवॉर्ड भी जीते। साथ ही पृथ्वी और पर्यावरण विज्ञान की श्रेणी के फाइनल में वह दुसरे स्थान पर रहीं। एक अंग्रेजी अखबार से अपनी बातचीत में सहिथी ने कहा-

“मुझे बिलकुल भी यकीन नहीं था कि ऐसा कुछ होगा। ज्यादा से ज्यादा मुझे एक विशेष अवार्ड की उम्मीद थी। मुझे अभी तक यकीन नहीं हो रहा है कि मेरे नाम पर एक ग्रह का नाम रखा जाएगा।”

वर्तमान में सहिथी मिशिगन विश्वविद्यालय के सिविल एंड एनवायरनमेंटल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट में पीएचडी छात्रों और प्रोफेसरों के साथ बतौर इंटर्नशिप पर काम कर रही हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement