Advertisement

ट्रेजेडी क्‍वीन मीना कुमारी भी नहीं बच पाई थी तीन तलाक और हलाला के दर्द से

5:19 pm 22 Aug, 2017

Advertisement

आज सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक की वैधता खत्म करके ऐतिहासिक फैसला सुनाया है, जिससे लाखों मुस्लिम महिलाओं ने राहत की सांस ली होगी। वैसे पिछले कुछ समय से देश में तीन तलाक का मुद्दा काफी गरमाया हुआ था, उसके बाद हलाला को लेकर भी चर्चाओं का बाज़ार गर्म है। हालांकि, शायद कम ही लोग जानते होंगे कि तीन तलाक का दर्द सिर्फ आम महिलाएं ही नहीं मशहूर अभिनेत्री मीना कुमारी भी झेल चुकी हैं।

सालों पहले मीना कुमारी ‘तीन तलाक’ और ‘हलाला’ की प्रथा से गुजर चुकी हैं।

मीना कुमारी ने फिल्‍म ‘पाकीजा’ के निर्देशक कमाल अमरोही से निकाह किया था। एक बार कमाल अमरोही ने गुस्‍से में आकर मीना कुमारी को तीन बार ‘तलाक’ कह दिया और दोनों का तलाक हो गया। बाद में कमाल अमरोही को अपने किए पर अफसोस हुआ और उन्‍होंने मीना कुमारी से दोबारा निकाह करना चाहा, लेकिन तब इस्‍लामी धर्म गुरुओं ने बताया था कि इसके लिए पहले मीना कुमारी को ‘हलाला’ करना पड़ेगा। तब कमाल अमरोही ने मीना कुमारी का निकाह अमान उल्‍ला खान (जीनत अमान के पिता) से करवाया। मीना कुमारी को अपने नये शौहर के साथ हमबिस्‍तर होना पड़ा था। इसके बाद मीना कुमारी को नये शौहर ने तलाक दिया और फिर कमाल अमरोही ने दोबारा मीना कुमारी से निकाह किया।

अपनी ज़िंदगी के इस कड़वे अनुभव के बारे में मीना कुमारी ने लिखा थाः


Advertisement

“जब धर्म के नाम पर मुझे अपने जिस्‍म को किसी दूसरे मर्द को सौंपना पड़ा तो फिर मुझमें और वेश्‍या में क्‍या फर्क रहा ?”

इस घटना के बाद मीना कुमारी पूरी तरह से टूट गई थी और शराब पीने लगी थीं। मानसिक तनाव और शराब उनकी मौत का कारण बनी और उन्‍होंने सिर्फ 39 साल की उम्र में वर्ष 1972 में इस दुनिया को हमेश-हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था।

मीना कुमारी इतनी बड़ी स्टार होने के बावजूद धर्म के नाम पर किए जाने वाले फरेब से खुद को बचा नहीं पाईं। हमारे देश में औरते चाहें कितनी भी कमयाब क्यों न हो जाए कुछ मामलों में उन्हें पुरुषों की बराबरी का हक आज तक नहीं दिया गया है। उम्मीद है तीन तलाक के बाद अब मुस्लिम महिलाओं को हालाल से भी आज़ादी मिल जाए।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement