McDonald’s ने भारतीय कंपनी के साथ खत्म किया करार, देश भर में 169 आउटलेट होंगे बंद

author image
Updated on 22 Aug, 2017 at 7:26 pm

Advertisement

मैकडोनाल्ड्स फ़ूड के दीवानों के लिए बुरी खबर है। अमेरिकी बर्गर रेस्टोरेंट कंपनी मैकडोनाल्ड्स की भारतीय इकाई ने अपनी लोकल पार्टनर कंपनी कनाट प्लाजा रेस्टोरेंट लिमिटेड (सीपीआरएल) के साथ अपना व्यावसायिक करार खत्म कर दिया है।

इस करार के खत्म होने से दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत और पूर्वी भारत में लगभग 169 रेस्टोरेंट बंद हो जाएंगे। मैकडोनाल्ड्स ने करार की शर्तों के उल्लंघन और भुगतान में चूक का आरोप लगाते हुए सीपीआरएल के साथ अपना फ्रैंचाइजी एग्रीमेंट रद्द किया।

सीपीआरएल कंपनी को अब मैकडोनाल्ड्स का नाम, उसके आइकन, डिजाइन और उससे जुड़ी बौद्धिक संपदा आदि के इस्तेमाल करने का अधिकार नहीं होगा। ये सभी शर्तें करार खत्म करने के नोटिस के 15 दिन के भीतर लागू हो जाएंगी।

इन रेस्टोरेंट्स के बंद होने का असर सबसे ज्यादा उन हजारों कर्मचारियों पर पड़ेगा जो यहां काम करते हैं। ऐसे में मैकडोनाल्ड्स ने कहा है कि कर्मचारियों, जमीन मालिकों आदि प्रभावित लोगों की परेशानियों को दूर करना उनकी प्राथमिकता होगी। कंपनी इसके लिए सीपीआरएल के साथ काम करने को तैयार है।

McDonalds

moviegalleri


Advertisement

वहीं, हाल में स्थानीय नगर निकाय ने दिल्ली में मैकडोनाल्ड्स के नाम से चल रहे 43 आउटलेट्स के लाइसेंस रिन्यू करने से मना कर दिया था। इसके बाद मैकडोनाल्ड्स ने इन आउटलेट्स को बंद कर दिया गया था। इनके संचालन की जिम्मेदारी सीपीआरएल के पास थी।



आपको बता दें कि बिजनेसमैन विक्रम बख्शी की अगुवाई वाली सीपीआरएल का मैकडोनाल्ड्स इंडिया से विवाद चल रहा था। यह विवाद कंपनी के प्रबंधन को लेकर था। सीपीआरएल में बक्शी और मैकडोनाल्ड्स इंडिया आधे-आधे की भागीदार हैं।

मैकडोनाल्ड्स  बर्गर और फ्रेंच फ्राइज मार्केट में एक बड़ा ब्रांड रहा है। इसके बंद हो जाने से दूसरी प्रतिद्वंदी कंपनियों जैसे बर्गर किंग, वेन्डी को फायदा मिलने के जबरदस्त आसार है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement