यहां 500 से ज्यादा इंजीनियर और एमबीए बनेंगे चपरासी

author image
Updated on 2 Jan, 2016 at 3:38 pm

Advertisement

मध्य प्रदेश में 500 से अधिक इंजीनियर और प्रोफेशनल एमबीए की डिग्री लेने वाले चपरासी बनने जा रहे हैं। प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) ने चपरासियों की नियुक्ति के लिए 963 पदों पर आवेदन मंगाए गए थे। लिखित परीक्षा में शामिल होने की निम्नतम योग्यता 8वीं पास रखी गई थी। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से 8वीं पास सिर्फ 22 कैन्डिडेट्स को ही सफलता मिली। बाकी सभी इंजीनियर, एमबीए और पीजी ड्रिग्रीधारी हैं।

पिछले साल 12 जुलाई को आयोजित हुई इस लिखित परीक्षा में 3 लाख 70 हजार 906 अभ्यर्थियों ने भाग लिया था। इस परीक्षा में भाग लेने वालों में 15 हजार से अधिक पोस्ट ग्रेजुएट और इंजीनियरिंग पासआउट थे।


Advertisement

मैरिट में पांचवां स्थान हासिल करने वाले छिंदवाड़ा के दिनेश साहू कहते हैंः

चपरासी बनने में कोई शर्म नहीं। पटवारी की परीक्षा दी, लेकिन मैरिट बेस्ड पर सिलेक्शन नहीं हो पाया। संविदा शिक्षक का एग्जाम पास किया, लेकिन बीएड नहीं होने के कारण नौकरी हाथ से गई। इसके बाद फोर्थ क्लास के लिए परीक्षा दी।

इस परीक्षा के लिए जारी मैरिट लिस्ट में 6 अभ्यर्थी उच्च शिक्षा प्राप्त हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement