मौलवी ने तिरंगा तो फहराया, लेकिन बच्चों को राष्ट्रगान गाने से मना कर दिया

9:50 am 17 Aug, 2018

Advertisement

हमारे देश में आजादी के इतने सालों बाद भी ऐसे लोग हैं जो मजहबी कट्टरता के कारण राष्ट्र का अपमान तक कर देते हैं। खासकर जब पढ़े-लिखे तबके से ऐसी बातें सामने आती है, जो सोचने पर मजबूर कर देती हैं। महाराजगंज के मदरसे से जो खबर आ रही है वो वाकई चौंकाती है। 15 अगस्त जैसे पावन मौके पर मौलवियों की करतूत अत्यंत अशोभनीय है।

कट्टर मौलवियों ने बच्चों को राष्ट्रगान गाने से मना कर बड़ा अपराध कर डाला!

 

 

बताया जा रहा है कि कोल्हुई क्षेत्र के बड़गो स्थित एक मदरसा में इस तरह की घटना हुई। ध्वजारोहण के समय का विडियो किसी ने सोशल मीडिया पर डाल दिया, जो कि वायरल हो चुका है। बच्चों को राष्ट्रगान गाने से मना करने वाले मौलवियों को मुसलमान होने की दुहाई देते हुए खुद भी राष्ट्रगान गाने से बचते पाया गया।

 

 

जब एक दूसरा मौलवी आपत्ति जताता है, तो उसे फटकार दिया जाता है। कहा जाता है कि हम ‘जन-गण-मन’ नहीं गाते हैं, बल्कि ‘सारे जहां से अच्छा’ सब मिलकर गाएंगे। इस मामले में पुलिस ने के दर्ज कर लिया है और जांच की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। हालांकि, ये बताया जा रहा है कि राष्ट्रगान बाद में हुआ था। वहीं, महाराजगंज पुलिस के एएसपी आशुतोष शुक्ला ने संज्ञान लेते हुए अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी और बीएसए को जांच सौंपी है।

 

 

मुख्य आरोपी का नाम जुनैद बताया जा रहा है। उसके साथ ही दो अन्य को भी गिरफ्तार किया गया है। इन पर 124ए, 153बी आईपीसी, राष्ट्रीय गौरव अपमान रोकथाम अधिनियम की धारा 2 और 3, धारा 7 सीएलए और धारा 7 और 67 आईटी ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

देखिए, पुलिस क्या कह रही है।

 

 

पुलिस की जो भी कार्रवाई हो, ये बेहद ही शर्मनाक बात है। ऐसे मौलवी कैसे बच्चों को शिक्षा दे सकते ये भी एक बड़ा सवाल है!

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement