Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

उधम सिंह ने लंदन जाकर ‘जलियांवाला बाग नरसंहार’ का लिया था बदला

Updated on 26 December, 2016 at 3:26 pm By

ब्रिटिश राज के खिलाफ स्वतंत्रता आन्दोलन में भारत के कई वीर सपूतों ने अपनी सक्रिय उपस्थिति दर्ज कराई थी। उनमें से एक शख्स ऐसा था, जिसने अपनी प्रतिशोध की अग्नि को पूरे 21 साल तक जलाए रखा। वह महान क्रांतिकारी थे उधम सिंह, जिन्होंने ‘जलियांवाला बाग नरंसहार’ का आदेश देने वाले जनरल डॉयर को लंदन में जाकर गोली मारी थी।


Advertisement

जलियांवाला बाग का वह कांड भला कौन भूल सकता है? 13 अप्रैल 1919 को अमृतसर के जलियांवाला बाग में हजारों निहत्‍थे भारतीयों पर अंग्रेजों ने ताबड़तोड गोलियां चलाई थीं और न जाने कितने मासूम लोगों का खून बहाया था।

दरअसल, 13 अप्रैल को एक जनसभा के दौरान ब्रिगेडियर जनरल डायर ने अंधाधुंध गोलियां बरसाने के आदेश दिए थे। 90 अंग्रेज सैनिकों ने सिर्फ दस मिनट में ही 1650 राउंड गोलियां चलाई चलाई थी।

वहां से निकलने के सारे मार्ग बंद कर दिए गए और अपनी जान बचाने के लिए लोग मैदान में मौजूद एकमात्र कुएं में कूद गए। देखते ही देखते वहां कई लाशें बिछ गई। इस भयावह नरसंहार में करीबन 1 हजार से भी ज्‍यादा लोगों की जान गई थी और लगभग 2 हजार से भी ज्‍यादा लोग घायल हुए थे।



इस हमले ने उधम सिंह को पूरी तरह से झकझोर के रख दिया था। उन्होंने अंग्रेज अधिकारी जनरल डायर को मारने का प्रण कर लिया और इसे पूरा भी किया।

इसके लिए उधम सिंह ने अलग-अलग नामों से विभिन्न जगहों ब्राजील, नैरोबी, अफ्रीका और अमेरिका की यात्रा की। 1934 में आखिरकार वह लंदन पहुंचे। यहां उधम सिंह ने एक रिवॉल्वर खरीदी और जलियांवाला बाग हत्याकांड के 21 साल बाद 13 मार्च 1940 को रायल सेंट्रल एशियन सोसायटी की लंदन के कॉक्सटन हॉल में उन्होंने वहां मौजूद डायर पर गोलियां दाग दीं। डायर को मारने के बाद उधम सिंह वहां से भागे नहीं, बल्कि उन्होंने आत्मसमर्पण कर दिया।

इस हमले में उधम ने वहां मौजूद किसी और को अपना निशाना नहीं बनाया। जब अदालत की सुनवाई के दौरान उनसे पूछा गया कि उन्होंने वहां मौजूद और किसी पर हमला क्यों नहीं किया, तो उनका कहना था कि सच्चा हिंदुस्तानी कभी महिलाओं और बच्चों पर हथियार नहीं उठाता।


Advertisement

उधम सिंह को अंग्रेजों ने हत्या का दोषी करार देते हुए फांसी की सज़ा सुनाई। जिसके बाद उन्हें  31 जुलाई 1940 को पेंटनविले जेल में फांसी दे दी गई। उन्हें भगत सिंह के बाद शहीद-ए-आजम के नाम से भी जाना जाता है।

Advertisement

नई कहानियां

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी

Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी


जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़

जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Culture

नेट पर पॉप्युलर