समन्दर की ऊंची लहरों ने मुंबई के समुद्र तट पर 9 मीट्रिक टन कचरा फैला दिया

Updated on 17 Jul, 2018 at 4:23 pm

Advertisement

मुंबई समुद्र तट पर अवस्थित है जो इसकी सुन्दरता में चार चांद लगाते हैं। इसके साथ ही यही इस मायानगरी के लिए एक बड़ी चुनौती भी है। सागर किनारे स्थित होने से बरसात के मौसम में शहर को बहुत कुछ झेलना होता है। जनजीवन एकदम से अस्त-व्यस्त हो जाता है। यहां पर जुहू, मरीन ड्राइव, चौपाटी, वरसोवा, हाजी अली, गेटवे ऑफ इंडिया, एलिफेंटा आदि कई जगहों से समुद्र को निहारा जा सकता है।

इसी समुद्र ने मुंबई के किनारों पर कचरों का अंबार लगा दिया है!

 

 

खासकर मरीन ड्राइव तो एकदम से कचरापट्टी बन चुका है, जो कि शहर के मुख्य आकर्षण के रूप में जाना जाता है। पिछले दिनों यहां विक्टोरियन और आर्ट डेको शैली में बनी इमारत को यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया था। इस कारण इसने लोगों का ध्यान खींचा लेकिन आजकल कचरों की वजह से सुर्ख़ियों में है।

 

बीते शुक्रवार को बड़ी लहरों के कारण समुद्र से 9 मीट्रिक टन कचरा लहरों के साथ किनारे पर आ गया। हालांकि, बीएमसी ने महज ढाई घंटे में ही साफ-सफाई कर दी, जिसके बाद कचरा तो अभी के लिए हट गया है, लेकिन चिंता बढ़ गई है। ऐसा बार-बार हुआ तो एक बड़ी समस्या खड़ी हो सकती है।

 

बीएमसी के अधिकारियों के अनुसारः

“हम लोगों नौ मैट्रिक टन कचरा जमा किया, जिसमें 30 मज़दूरों की मदद लेनी पड़ी है। शुक्रवार को 4.85 मीटर ऊंची लहरों ने कचरे को किनारे पर फेंक दिया था। हमने सफाई तो कर दी है, लेकिन सोचने की बात ये है कि हम नागरिकों ने ही समुद्र में इतना कचरा जमा किया है जो समुद्र हमें वापस कर रहा है।”

इन ट्वीट के माध्यम से आप उस वक़्त का नज़ारा देख सकते हैं।

 

 

समुद्र की भयावहता बढ़ सकती है और इसे झेलने के लिए पर्याप्त तैयारी करने की जरूरत है। ये भी सोचने की जरूरत है कि आखिर हमने कितनी लापरवाही की है और प्रकृति को कितना नुकसान पहुंचाया है!

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement