बिहार में नीलगायों की हत्या पर दो मंत्रालय आमने-सामने, मेनका ने की जावड़ेकर की खिंचाई

author image
Updated on 9 Jun, 2016 at 4:37 pm

Advertisement

बिहार में फसल को नुकसान पहुंचाने वाले नीलगायों की हत्या के मामले में केन्द्र के दो मंत्रालय भिड़ गए हैं। महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी इन जानवरों के मारे जाने का विरोध कर रही हैं।

मेनका ने आरोप लगाया है कि पर्यावरण मंत्री राज्यों को पत्र लिखकर जानवरों को मारने की मंजूरी दे रहे हैं।

हालांकि, पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि राज्यों के आग्रह के बाद ही जानवरों को मारने का आदेश दिया गया है।


Advertisement

जावड़ेकर का कहना है कि जानवरों की वजह से फसल खराब होने से परेशान किसानों ने इसकी मांग की थी, जिसके बाद जानवरों को मारने की अनुमति दी गई है।

मेनका गांधी ने आरोप लगाया है कि पर्यावरण मंत्रालय हर राज्य को लिख रहा है कि आप बताओ किसको मारना है? उन्होंने आरोप लगाया कि बंगाल में हाथी को और गोवा में मोर को मारने की इजाजत दी जा रही है। जंगली सूअरों को मारने की इजाजत दी जा रही है। इस घटना के लिए पर्यावरण मंत्रालय जिम्मेदार है।

हाल ही में बिहार में 250 से अधिक नीलगायों की हत्या की गई है।

राज्य सरकार ने पर्यावरण मंत्रालय को लिखा था कि ये नीलगाय फसलों को नुकसान पहुंचा रहे थे, इसलिए इनके खात्मे की इजाजत दी जाए।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement