आखिर क्यों कांस फिल्म फेस्टिवल में मल्लिका शेरावत ने खुद को पिंजरे में किया कैद?

author image
Updated on 17 May, 2018 at 4:51 pm

Advertisement

इस साल का 71वां कांस फिल्म फेस्टिवल सिर्फ ग्लैमर के लिए ही सुर्ख़ियों में नहीं रहा, बल्कि इस मंच पर कुछ हस्तियों ने सामाजिक संदेश देकर सबका ध्यान अपनी ओर खींचा। अभी हाल ही में कांस में कुछ ऐसा देखने को मिला, जो पहले कभी नहीं देखा गया था। कांस के रेड कार्पेट पर उतरी अमेरिकन ऐक्ट्रेस और फिल्म मेकर क्रिस्टीन स्टीवर्ट ने अचानक अपनी हील्स उतार दी। उन्होंने अपने सैंडल हाथों में लेकर नंगे पैर ही रेड कार्पेट पर वॉक शुरू कर दी। इस वाकये को देख वहां मौजूद हर शख्स हैरान रह गया।

 

 


Advertisement

दरअसल, रेड कार्पेट पर जो भी महिलाएं उतरती हैं, उन्हें हाई हील्स पहनकर ही रेड कार्पेट पर वॉक करना होता है। ये एक पॉलिसी है, लेकिन स्टीवर्ट हमेशा से इस पॉलिसी की विरोधी करती आई हैं। उनका मानना है कि जरूरी नहीं हर किसी को हाई हील्स सूट करती हो, या वो इनमें सहज हो। इसलिए उन्होंने कांस फिल्म फेस्टिवल में नंगे पैर चलकर खुलेआम इस पर अपना विरोध जताया।

 

 

उधर, कांस फिल्म फेस्टिवल में पहुंची बॉलीवुड की बोल्ड एक्ट्रेस मल्लिका शेरावत ने सोशल मीडिया पर एक ऐसा विडियो पोस्ट किया है, जिसमें वह एक पिंजरे पर बंद दिखाई दे रही हैं। इस विडियो के जरिए उन्होंने दुनिया को एक संदेश दिया है।

 

 

मल्लिका शेरावत का पिंजरे में बंद होने का मकसद बच्चियों के साथ होने वाले अत्याचारों को बंद करने के खिलाफ है। उन्होंने लॉक-मी-अप कैंपेन का हिस्सा बनकर ‘चाइल्ड ट्रैफिकिंग और प्रोस्टिट्यूशन’ के खिलाफ आवाज उठाई है।

 

 

विडियो में पिंजरे में बंद मल्लिका कहती हैंः

 

“मैं इस पिंजरे में कैद हूं। इसका साइज़ 2 मीटर्स है, जो भारत में ऐसे ही एक कमरे का प्रतिरूप है, जिसमें छोटी बच्चियों को जबरन बंद करके रखा जाता है और उन्हें प्रोस्टिट्यूशन में धकेल दिया जाता है। कृपया लड़कियों को इससे छुड़ाने में मदद करें। न्याय के इस काम में मदद करें।”

 

 

बता दें कि मल्लिका ‘फ्री अ गर्ल इंडिया’ इंटरनेशनल एनजीओ की ब्रांड अंबेसडर हैं, जो मानव तस्करी और बच्चों के साथ होने वाले यौन शोषण जैसे अपराधों के खिलाफ आवाज उठाते हैं।

 

 

कांस फिल्म फेस्टिवल एक बड़ा मंच है। इस फेस्टिवल पर दुनियाभर की निगाह रहती हैं। मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक यह फेस्टिवल सुर्ख़ियों में बना रहता है। ऐसे में इस मंच के जरिए दुनियाभर के लोगों तक बात पहुंचाना एक अच्छा कदम है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement