आधार कार्ड को लेकर दो बड़े अहम फैसले, जानिए वरना पड़ सकता है पछताना

author image
Updated on 5 Dec, 2016 at 3:23 pm

Advertisement

केन्द्र सरकार आधार कार्ड के उपयोग को लेकर कई अहम फैसले लेते आई है। इसी कड़ी में अब आधार कार्ड को लेकर दो बड़े फैसले लिए गए हैं, जिन्हें एक दिसंबर से लागू भी कर दिया गया है।

पहला अहम फैसला:

हरियाणा बोर्ड के निर्देशानुसार अब से परीक्षा में बैठने के लिए आधार कार्ड होना जरूरी है। जेईई मेन्स के फॉर्म भरने के लिए भी इसे अनिवार्य कर दिया गया है। इसमें ऑनलाइन आवेदन करते समय आवेदकों को अपना आधार नंबर देना होगा।

सरकार के इस निर्णय के बाद, जिन छात्रों के आधार कार्ड नहीं बने हैं, उनकी परेशानी को देखते हुए अब CBSE ने छात्रों के आधार कार्ड बनाने का फैसला लिया है। इस वजह से देशभर में 104 सुविधा केंद्र खोले गए हैं। CBSE ने इन केंद्रों की सूची को जेईई मेन्स की अधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दी है।

इन सुविधा केंद्रों पर छात्रों को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा, जिसके 3 से 5 हफ़्तों बाद ही उन्हें आधार कार्ड जारी कर दिया जाएगा। आधार कार्ड के जारी होने की जानकारी ईमेल या मैसेज के माध्यम से बता दी जाएगी।

अगर आवेदन की अंतिम तिथि तक आधार कार्ड  नहीं बन पाता है, तो छात्रों को घबराने की जरूरत नहीं है वह आवेदन फॉर्म में आधार के एनरोलमेंट नंबर को भर सकते हैं। 28 संख्या का यह एनरोलमेंट नंबर, रजिस्ट्रेशन के समय मिली स्लिप पर लिखा होता है।



दूसरा अहम फैसला:

अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो रसाई गैस पर सरकार की तरफ से मिलने वाली सब्सिडी का लाभ आप नहीं उठा पाएंगे।

तेल कंपनियों ने अपना निर्देश जारी करते हुए कहा है कि गैस पर सब्सिडी का लाभ उन्हें ही दी जाए, जिनके आधार कार्ड उनके गैस कनेक्शन्स से लिंक हैं। इसलिए अभी तक अगर आपका गैस कनेक्शन आधार कार्ड से लिंक नहीं है, तो 31 दिसंबर 2016 तक इसे जरूर लिंक करा दे।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement