Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

रहस्यमयी होता है महिला नागा साधुओं का जीवन, जानिए इनसे जुड़ी दिलचस्प बातें

Updated on 11 March, 2019 at 4:30 pm By

कुंभ पर्व हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण पर्व होता है, जिसमें करोड़ों श्रद्धालु कुंभ पर्व स्थल हरिद्वार, नासिक, प्रयाग और उज्जैन में स्नान करते हैं। यहां हर बारह वर्ष में कुंभ आयोजित किया जाता है। लेकिन प्रयाग में कुंभ दो बार आयोजित किया जाता है। इन कुंभ मेलों का आकर्षण होते हैं यहां आने वाले साधु-संतों के 13 अखाड़े। वैसे अब इनमें दो अखाड़े और जुड़ गए हैं, एक किन्नर अखाड़ा और दूसरा महिला नागा साधु (Mahila Naga Sadhus) अखाड़ा।


Advertisement

 

 

कुंभ में आया महिला नागा साधु अखाड़ा

किन्नर अखाड़े के बारे में तो सभी जानते हैं। महिला नागा साधु अखाड़े के बारे में सुनकर कुछ लोगों को थोड़ी हैरानी होगी। महिला नागा साधु भी पुरुष नागा साधुओं की ही तरह होती हैं। दोनों के नियम-कायदे एक समान होते हैं। दोनों में केवल एक ही फर्क होता है महिला नागा साधुओं को एक कपड़ा पहनने की इजाज़त होती है।

 

महिला नागा साधुओं को होती है ये अनुमति

पुरुषों की ही तरह महिला नागा साधुओं का जीवन भी पूरी तरह से ईश्वर को समर्पित होता है। दोनों के ही दिन की शुरुआत और दिन का अंत पूजा-पाठ के साथ होता है। महिलाएं जब नागा साधु बन जाती हैं तो उन्हें सभी माता कहकर पुकारते हैं। महिला साधुओं को जो एक कपड़ा पहननने की अनुमति होती है वो कपड़ा गेरुए रंग का होना चाहिए। साथ ही उन्हें माथे पर तिलक लगाना भी आवश्यक होता है।



 

त्यागना पड़ता है सांसारिक मोह


Advertisement

महिला नागा साधु बनने के लिए महिलाओं को कदा तप करना होता है। सबसे पहले एक महिला को करीब 10 साल की अवधि तक पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करना पड़ता है। जब महिला ये करने में सफ़ल हो जाती है तब उसे नागा साधु बनने की अनुमति दी जाती है। साथ ही महिला की पिछली ज़िंदगी के बारे में भी पूरी तरह से जानकारी हासिल की जाती है। ताकि पता लगाया जा सके महिला पूरी तरह से ईश्वर को समर्पित हो गई है या नहीं।

 

स्वयं का करना पड़ता है पिंडदान

महिला को नागा साधु बनने के दौरान ये साबित करना पड़ता है वो अपनी पिछली ज़िंदगी से पूरी तरह वापस आ गई है या नहीं। उसे किसी से भी किसी प्रकार का मोह तो नहीं है। सांसारिक सुखों से उसका लगाव पूरी तरह छूट गया है। इसी के साथ महिला साधु को अपना स्वयं का पिंडदान भी करना पड़ता है। यानी उसे खुद को मृत समझना पड़ता है।

 

पुरुष नागा साधुओं की तरह मिलता है सम्मान


Advertisement

इस प्रक्रिया के दौरान महिलाओं को अपने बालों का दान करना पड़ता है। इसके बाद पवित्र नदी के जल में स्नान अकर्ण होता है। महिला नागा साधुओं को भी उसी प्रकार सम्मानित किया जाता है जिस प्रकार पुरुष नागा साधुओं को सम्मान दिया जाता है। महिला नागा साधु भी पुरुष नागा साधुओं के साथ ही कुंभ में पहुंचती हैं। वो भी उन्हीं के साथ पवित्र नदी में स्नान करती हैं। लेकिन पुरुष नागा साधुओं के स्नान करने के बाद ही वो पानी में उतरती हैं।

Advertisement

नई कहानियां

सुहागरात से जुड़ी ये बातें बहुत कम लोग ही जानते हैं

सुहागरात से जुड़ी ये बातें बहुत कम लोग ही जानते हैं


नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं

नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं


मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक

मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक


PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!

PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!


अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?

अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Culture

नेट पर पॉप्युलर