Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

…जब महाराणा प्रताप ने काट ली थी मुगल बादशाह अकबर की मूंछ!

Published on 11 July, 2017 at 8:20 pm By

हमारे देश के इतिहास को कई बार तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। इतिहासकारों ने मुगल बादशाह अकबर को ‘महान’ शासक की उपाधि दी हुई है, लेकिन वही राजपूत शासक महाराणा प्रताप के गौरव और तेज प्रतापी चरित्र को स्वीकार करने में विफल रहे हैं।


Advertisement

maharana

अगर किसी बच्चे से पुछा जाए कि महाराणा प्रताप कौन थे, तो एक ही जवाब मिलेगा, वह जिन्होंने हल्दीघाटी युद्ध लड़ा था। यह भी हो सकता है कि शायद बच्चों को हल्दीघाटी की इस लड़ाई के बारे में भी कुछ पता न हो।

साल 1576 में हुए इस भीषण युद्ध में अकबर को नाको चने चबाने पड़े थे। हालांकि, राजस्थान की धरा पर लड़ा गया यह भीषण युद्ध आज तक बेनतीजा माना जाता रहा है। लेकिन राजस्थान सरकार की ओर से दावा किया गया है कि इस युद्ध में आखिर जीत महाराणा प्रताप की हुई थी। इस दावे के पीछे सरकार ने इतिहासकार डॉ. चन्द्रशेखर शर्मा के शोध का हवाला दिया। डॉ. शर्मा ने अपने शोध सबूतों के साथ प्रताप को हल्दीघाटी युद्ध का विजेता बताया।

अभी भी कई ऐसे हैं जो देश के गौरवान्वित इतिहास के महान हिंदू शासक महाराणा प्रताप से अनजान हैं। यही कारण है कि स्कूलों में इतिहास के पाठ्यक्रम में तथ्यों के आधार पर संशोधन होना आवयशक है। साथ ही आज की नई पीढ़ी को भारत के महान राजाओं की वीर गाथा से अवगत कराया जाना भी जरूरी है।

इतिहास के पन्नों में महाराणा प्रताप से जुड़ी कई महान कहानियां दर्ज हैं। ऐसी ही एक कहानी है जब महाराणा प्रताप ने अकबर की मूंछ काट दी थी।



जब मुगल सेना ने मेवाड़ पर हमला किया, महाराणा प्रताप ने अपनी मातृभूमि को बचाने के लिए उन्हें लड़ाई में चुनौती दी। मुगल सेना राजस्थान में राजसमंद के पास बादशाह मगरी में डेरा डाले हुए थी।

महाराणा प्रताप रात में शिविर स्थल पर पहुंचे और अपने स्वभाव और विचारधारा के प्रति सच्चे, प्रताप ने सोते हुए दुश्मन और उनके सम्राट पर हमला नहीं किया। लेकिन अकबर को यह आभास कराने के लिए कि उनकी सेना डटकर मुकाबला करने के लिए वहीं मौजूद हैं, महाराणा प्रताप ने अकबर की मूंछ काट दी। कहा जाता है अकबर उस वक्त गहरी नींद में सोया था।

महाराणा प्रताप का जन्म राजस्थान में उदयपुर के निकट कुम्भलगढ़ किले में 9 मई 1540 को हुआ था। बहादुर महाराणा, अकबर और उसकी सेना से मुकाबला करने और अपनी मातृभूमि को बचाने के लिए कई वर्षों तक निर्वासित रहे थे। महाराणा प्रताप से जुड़ी राजस्थानी लोककथाओं में उनके वफादार और साहसी घोड़े चेतक का जिक्र है, जो अपनी अन्तिम सांस तक अपने मालिक की रक्षा करता रहा।


Advertisement

maharana

आपको बता दें कि गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी महाराणा प्रताप को लेकर कहा था कि महाराणा प्रताप का सही मूल्यांकन इतिहासकारों ने नहीं किया। उन्होंने कहा थाः

“वो महाराणा प्रताप ही थे जो आजादी और खुद के सम्मान के लिए वीरता से लड़े। इस लड़ाई में उन्होंने अपना सब कुछ त्याग दिया लेकिन अकबर के आगे हार नहीं मानी। मुझे आश्चर्य है कि कैसे हमारे इतिहासकारों ने अकबर को महान बना दिया जबकि प्रताप को नहीं, उन्हें प्रताप में ऐसी कौन सी कमी नजर आई कि उन्होंने प्रताप को महान नहीं माना।”


Advertisement

महाराणा प्रताप के योगदान को कतई भी कम नहीं आंका जा सकता। इतिहासकारों को महाराणा प्रताप के योगदान का फिर से मूल्यांकन करने की जरूरत है।

Advertisement

नई कहानियां

WAR Full Movie Leaked Online to Download: Tamilrockers पर लीक हो गई WAR, एचडी प्रिंट डाउनलोड करके देख रहे हैं लोग!

WAR Full Movie Leaked Online to Download: Tamilrockers पर लीक हो गई WAR, एचडी प्रिंट डाउनलोड करके देख रहे हैं लोग!


Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग


Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Culture

नेट पर पॉप्युलर