Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

महाभारत काल की वह जगह जहाँ दुर्योधन ने पांडवों को ज़िंदा जलाने का किया था प्रयास

Published on 10 June, 2016 at 10:59 am By

प्रकृति के गोद में जा कर उसके विभिन्न रंग देखने से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। प्रकृति की शांति, आध्यात्मिक और उसकी रोचकता को अनुभव करना ही शायद जीवन है। और अगर आप किसी ऐसे स्थान पर पहुंचते हैं, जहाँ आप उस स्थान के महत्व के साथ उससे जुड़ी पौराणिक या ऐतिहासिक प्रसंगों से शीतलता प्राप्त कर पाते हैं, तो निश्चित तौर पर आपका अनुभव अविस्मरणीय बन जाता है।

कुछ ऐसी ही प्रकृति और आत्मीयता के साथ अध्यात्म से जुड़ी है देवभूमि कहलाने वाले उत्तराखंड के लाखामंडल की पौराणिक गुफा, जहाँ महाभारत काल में पांडवों को एक नया जीवन मिला।

अभी हाल ही में मुझे अपने ‘मुख्य संपादक’ के साथ किसी काम के सिलसिले में मसूरी जाने का अवसर प्राप्त हुआ। काम की व्यस्तता और महानगरों की मई-जून की गर्मी के बीच वादियों में कुछ पल वक़्त गुजारना, रोज़मर्रा के जीवन से थोड़ी नीरस हो चुकी विचार कोशिकाओं में पुनर्जीवन प्रवाहित होने जैसा प्रतीत हो रहा था।


Advertisement

मैने ऐसे ही अपने प्रकृति प्रेम और नये स्थानों पर विचरण करने की अभिरुचि को अपने मुख्य संपादक से साझा की। मेरी मनोदशा को समझते हुए उन्होने मसूरी से करीब 75 किलोमीटर दूर लाखामंडल के अनोखे अलौकिक छटा और वहाँ के रहस्यमयी गुफ़ाओं, जिसका महत्व महाभारत से जुड़ा है, का रस-पान कराया। मेरे अति-उत्साहित और रोमांचित होते देख मुझे प्रकृति कि वह धरोहर दिखाने का निश्चय कर मुझे आश्वस्त किया।

प्रकृति की वादियों में बसा लाखामंडल गाँव यमुना नदी के तट पर स्थित है। दिल को लुभाने वाली यह जगह गुफाओं और भगवान शिव के मंदिर के प्राचीन अवशेषों से घिरा हुआ है। माना जाता है कि इस मंदिर में प्रार्थना करने से व्यक्ति को पापों से मुक्ति मिल जाती है। यहां पर खुदाई करते वक्त विभिन्न आकार के और विभिन्न ऐतिहासिक काल के शिवलिंग मिले हैं। पौराणिक मान्यता के अनुसार इन पवित्र धरा को महाभारत से जोड़ा जाता है।

इस मंदिर का मुख्य आकर्षण ग्रेफाइट से बना शिवलिंग है। ऐसी मान्यता है कि इस लिंग की स्थापना अज्ञात-वास के समय धर्मराज युधिष्ठिर ने की थी। इस शिवलिंग की विशेषता यह है कि जब इसका जलाभिषेक किया जाता है तो यह चमकता है और इसमें जलाभिषेक कर रहे भक्त का प्रतिबिंब दिखता है, जिसकी वजह से यह पर्यटकों के बीच एक आस्था और रोमांच का विषय बना रहता है।

शिवलिंग के करीब ही दानव और मानव को दर्शाती दो मूर्तियों भी मुख्य मंदिर के बगल में स्थित हैं। इन मूर्तियों को इस मंदिर का द्वारपाल भी कहा जाता है। कुछ लोगों का मानना ​​है कि ये मूर्तियां भीम और अर्जुन की हैं। ऐसा भी कहा जाता है कि मृत्यु को प्राप्त किया हुआ व्यक्ति अगर इन द्वारपालो के समीप रख दिया जाए तो वह कुछ पल के लिए जीवित हो उठता है।



स्थानीय लोगों के मुताबिक, इस मंदिर और आसपास का क्षेत्र, महाभारत के एक प्रकरण से ताल्लुक रखता है। प्रसंग के अनुसार दुर्योधन ने लाक्षागृह को लाख या लाह से निर्माण पांडवों को जिंदा जलाने के एक षड्यंत्र के तहत किया था। लोगों का मानना है कि लाक्षागृह, लाखामंडल के आस पास ही निर्मित हुआ था।

महाभारत के अनुसार जब लाक्षागृह को आग में समर्पित कर दिया गया था, तब पांडवों ने एक सुरंग की मदद से अपने प्राणों की रक्षा की थी। ऐसी मान्यता है कि वह सुरंग एक गुफा के मुहाने पर जा कर खुलता है, जो लाखामंडल में अभी भी मौजूद है। ऐसी रहस्मयी गुफा ज़रूर आपको रोमांचित कर सकती है।


Advertisement

मेरी राय है कि अगर आप में प्राकृतिक प्रेम के साथ ऐतिहासिक और पौराणिक स्थानो से रूबरू होने की रूचि है तो लाखामंडल निश्चित रूप से आपका मन-मोह लेगी। मैं अपने ‘मुख्य संपादक’ का तहे दिल से शुक्र-गुज़ार हूँ, जिनकी वजह से मेरे लिए प्रकृति की ऐसी अनमोल धरा को बेहद करीब से देखना संभव हो सका। अगर आप भी इन गर्मियों की छुट्टियों में कहीं घूमने का मन बना रहें हैं तो एक बार लाखामंडल ज़रूर जाए।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें History

नेट पर पॉप्युलर