Advertisement

माधुरी दीक्षित के जीवन से जुड़े 10 तथ्य ज्यादातर फैन नहीं जानते

author image
4:01 pm 19 Nov, 2015

Advertisement

माधुरी दीक्षित हिन्दी सिनेमा की सफल अभिनेत्रियों में से एक हैं। यह उनके स्वाभाविक अभियन और नृत्य का जादू था कि माधुरी पूरे देश की धड़कन बन गईं और उन्होंने अपने लिए ऐसा मुकाम हासिल किया कि नवोदित अभिनेत्रियों के लिए आदर्श बन गईं। 80 अौर 90 के दशक में माधुरी के फिल्मों की कल्पना नहीं की जा सकती थी। हम यहां माधुरी से जुड़े 10 ऐसे अनछुए पहलुओं को उजागर करने जा रहे हैं, जिनके बारे में उनके प्रशंसकों को शायद ही पता होगा।

1. ‘हम आपके हैं कौन’ में काम करने के लिए माधुरी दीक्षित को 27,535,729 रुपए का मेहनताना मिला था।

2. माधुरी बॉलीवुड की एकमात्र ऐसी अभिनेत्री हैं, जिन्हें सबसे अधिक 13 बार फिल्म फेयर बेस्ट एक्ट्रेस अवार्ड के लिए नामित किया गया।

3. माधुरी दीक्षित फिल्मों से नहीं जुड़ना चाहती थीं। पढ़ने में होशियार माधुरी ने माइक्रोबायोलॉजी में डिग्री ली हुई है।

वह एक माइक्रोबायोलॉजिस्ट बनना चाहती थीं।

4. प्रसिद्ध चित्रकार एम एफ हुसैन माधुरी के इतने बड़े प्रशंसक थे कि उन्होंने उनकी फिल्म ‘हम आपके हैं कौन’ 67 बार देखी।

यही नहीं हुसैन ने माधुरी की फिल्म ‘आजा नचले’ के लिए एक पूरा थियेटर बुक कर रखा था।

5. वर्ष 2011 के शुरू में माधुरी ने ‘फ्रिकी फ्राइडे’ फिल्म के रिमेक में काम करने से मना कर दिया।


Advertisement

बाद में इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभाई अनिल कपूर और उनकी बेटी सोनम कपूर ने।

6. ‘काहे छेड़ मोहे’ नामक गीत की शूटिंग के दौरान माधुरी ने 30 किलोग्राम वजनी कॉस्ट्यूम पहना था।

इस कॉस्ट्यूम की वजह से माधुरी को कोरियोग्राफी में थोड़ी दिक्कत भी हो रही थी, इसके बावजूद उन्होंने इसे पूरा किया।

7. माधुरी दीक्षित की दो बड़ी बहनें हैं। उनके नाम हैं रूपा और भारती। उनका एक बड़ा भाई है, अजीत।

8. माधुरी दीक्षित एक मंजी हुई कथक नर्तकी हैं। उन्होंने कथक नृत्य की शिक्षा आठ सालों तक ली थी।

9. माधुरी दीक्षित अपने समय की एकमात्र ऐसी अभिनेत्री हैं, जिनका कोरियोग्राफर बनने के लिए खुद कथक गुरू पंडित बिरजू महाराज तैयार हुए।

जी हां, फिल्म का नाम था ‘देवदास’। पंडित बिरजू महाराज ने माधुरी को बॉलीवुड की सबसे बेहतरीन नर्तकी बताया था।

10. पूरी दुनिया में माधुरी के लाखों फैन हैं, लेकिन जमशेदपुर का उनका एक फैन सबसे अलग है। यहां के पप्पू सरदार के लिए साल का नया दिन माधुरी के जन्मदिन पर शुरू होता है। वह इसके लिए बकायदा कैलेन्डर भी छपवाते हैं।

यही नहीं, इस प्रशंसक ने सरकार से गुजारिश की है कि माधुरी दीक्षित के जन्मदिन पर छुट्टी घोषित की जाए।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement