दुनिया भर में मशहूर भारतीय बाघिन ‘मछली’ की मौत

author image
Updated on 18 Aug, 2016 at 6:59 pm

Advertisement

दुनिया भर में मशहूर भारतीय बाघिन ‘मछली’ की मौत हो गई है। ‘मछली’ को रणथंभौर की रानी भी कहा जाता रहा है।

कैमरे के प्रति विशेष स्वभाव व अपने शांत स्वभाव की वजह से यह बाघिन रणथंभौर नेशनल पार्क में वर्षों से आकर्षण केन्द्र बनी रही है। वर्ष 1997 में जन्मीं ‘मछली’ के नाम से एक फेसबुक पेज भी रहा है।

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी ‘मछली’ के निधन पर शोक व्यक्त किया है।


Advertisement

‘मछली’ ने अपने जीवनकाल में 11 बाघों को जन्म दिया, जिनमें 7 मादा और 4 नर थे। रणथंभौर नेशनल पार्क बाघों की कुल आबादी का 60 फीसदी मछली के कुनबे से ही संबंध रखते हैं।

इस बाघिन ने एक बार 10 फुट लंबे मगरमच्छ का सामना बखूबी किया था। मगरमच्छ ने ‘मछली’ के एक बच्चे पर हमला कर दिया। ऐसा होते देख ‘मछली’ मगरमच्छ पर टूट पड़ी और दोनों के बीच जबर्दस्त संघर्ष हुआ। इस संघर्ष में उसको अपने कुछ दांत गंवाने पड़े थे, लेकिन जीत ‘मछली’ को ही हासिल हुई थी।

अपने शिकार कौशल के लिए परिचित ‘मछली’ पर केन्द्र सरकार डाक टिकट भी जारी कर चुकी है। इस बाघिन को लाइफ टाइम अचीवमेन्ट अवार्ड भी मिल चुका था। दुनिया भर में यह एक मात्र ऐसी बाघिन रही है, जिसके सबसे ज्यादा फोटो खींचे गए हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement