लद्धाख में ‘लव जिहाद’, बौद्धों में नाराजगी

Updated on 13 Sep, 2017 at 5:41 pm

Advertisement

जम्मू-कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में लव जिहाद का मामला सामने आया है। इसके बाद से यहां के स्थानीय बौद्धों में नाराजगी है और बौद्धों के संगठन लद्दाख बुद्धिस्ट एसोसिएशन (LBA) ने राज्य सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद करना शुरू कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बौद्ध धर्मावलंबी एक 30 वर्षीया महिला धर्म परिवर्तन कर मुसलमान बन गई और एक शिया मुस्लिम युवक से शादी कर ली। इसके बाद ही यहां का माहौल तनावपूर्ण है। LBA ने चेतावनी जारी की है कि अगर युवती की वापसी नहीं हुई तो इसके परिणाम खराब हो सकते हैं। LBA इस मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से दखल देने की अपील कर रहा है। यह मामला कारगिल का है।

युवती का नाम अब शिफा हो गया है। युवती ने पिछले दिनों राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को एक पत्र लिखा था और दावा किया था कि उसने अपनी मर्जी से मुर्तजा से शादी की है। दिल्ली के एक एनजीओ में साथ काम करने के दौरान उन दोनों में प्यार हो गया था। इस्लाम अपनाने के बारे में युवती का कहना है कि यह उसका धार्मिक चुनाव है। इस पर बौद्ध संगठन का कहना है कि युवती पर दवाब बनाकर उसकी रजामंदी ली गई है।

राज्य महिला आयोग की चेयरपर्सन नयीमा महाजोर का कहना है कि युवती ने वर्ष 2015 में धर्म परिवर्तन किया था। उसने 2016 में अपनी मर्जी से बेंगलुरु में मुर्तजा से शादी की थी।


Advertisement

टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार की रिपोर्ट में LBA के एक शीर्ष अधिकारी पीटी कुंजैंग के हवाले से बताया गया है कि जम्मू-कश्मीर सरकार राज्य से बौद्ध धर्म का नामोनिशान मिटा देना चाहती है। कुजैंग का कहना है कि बौद्ध खिलाफ अपने खून के आखिरी कतरे तक लड़ेंगे।



लद्दाख में 51 फीसदी बौद्ध हैं, जबकि मुस्लिमों की संख्या 49 फीसदी है।

LBA का आरोप है कि बौद्ध लड़कियों की मुस्लिम युवकों से शादी कराकर उनका धर्म-परिवर्तन कराया जा रहा है और राज्य सरकार इस तथ्य को नजरअंदाज कर रही है। आरोप है कि मुस्लिम युवक बौद्ध होने का झांसा देकर युवा बौद्ध लड़कियों से शादी कर ले रहे हैं। पी़ड़ित लड़कियों को अपने साथ हुए इस धोखे का पता शादी के बाद पता चलता है।

वर्ष 2003 से अब तक 45 से अधिक बौद्ध लड़कियों ने मुस्लिम लड़कों से शादी की है और सबने अपनी मर्जी से शादी करने की बात कही है। कुजैंग ने आरोप लगाया कि लड़कियों से इस तरह के बयान दबाव डालकर दिलवाए जाते हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement