Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

मज़हब की दीवार दरकिनार कर नाज़नीन करती है राम की पूजा, पढ़ती है हनुमान चालीसा

Published on 2 March, 2016 at 6:02 pm By

जहां धर्म के नाम पर कुछ लोग एक दूसरे के बीच दीवार खड़ी कर लेते हैं, वहीं इन सब बातों से परे एक लड़की भाईचारे की नई इबारत लिख रही है। जी हां, हम बात कर रहे हैं बनारस की रहने वाली नाज़नीन अंसारी की।

नाज़नीन एक मुसलमान है, लेकिन रोज़े और नमाज़ के साथ-साथ नाज़नीन रोज एक धर्मनिष्ठ हिन्दू के भांति हाथ में दीप लिए भगवान राम की आराधना करती हैं। साथ ही उतनी ही सहजता से हनुमान चालीसा का पाठ भी करती हैं।

ऐसा करने के पीछे नाज़नीन का उद्देश्य लोगों में एक-दूसरे के धर्म के प्रति सद्भावना के भाव को बढ़ाना और एक-दूसरे के धर्म को सम्मान देना है।


Advertisement

मुसलमानों में हिन्दू धर्म से जुडी भ्रांतियों को दूर करने के लिए नाज़नीन ने हनुमान चालीसा के पाठ से अपने नेक उद्देश्य की शुरुआत की। यहां तक कि नाज़नीन ने हनुमान चालीसा को उर्दू में भी लिखा है, ताकि हनुमान चालीसा को उर्दू पढ़ने वाले आसानी से पढ़ सकें। अपने इस ख़ास उद्देश्य के बारे में नाज़नीन बताती हैंः



“साल 2006 में जब संकट मोचन मंदिर में बम ब्लास्ट हुआ तो ये आम धारणा बन गई कि ये किसी मुसलमान ने ही किया होगा। इसी बात ने मुझे इसके लिए प्रेरित किया और हम सत्तर महिलाओं ने वहां जाकर हनुमान चालीसा का पाठ किया।”

नाज़नीन ने न केवल हनुमान चालीसा को उर्दू लिपि में लिखा है, बल्कि दुर्गा चालीसा और शिव चालीसा को भी उर्दू में लिखा है।

नाज़नीन कहती हैं कि उन्हें अपने ही समुदाय के विरोध का सामना करना पड़ा, जो अब तक जारी है। लेकिन उन्होंने इस बात की परवाह न करते हुए अपने इस सांप्रदायिक सौहार्द के उद्देश्य को कायम रखा। वह बताती है कि उनके माता-पिता उनके इस नेक कार्य में उनके साथ हैं और यही उनको हौसला और हिम्मत देता है।

नाज़नीन के इस ख़ास अभियान से कई और मुस्लिम महिलाएं जुड़ गई हैं, जिनका मकसद सांप्रदायिक सौहार्द को आगे बढ़ाना है। वहीं कई हिन्दू साथी भी इस अभियान से जुड़े हैं। इस अभियान का लोगों पर असर को लेकर डॉक्टर राजीव श्रीवास्तव कहते हैंः


Advertisement

“आज बनारस में हिन्दुओं के कई धार्मिक कार्यक्रमों में मुसलमान धर्म गुरु और मुसलमानों के धार्मिक कार्यक्रमों, त्योहारों में हिन्दू धर्मगुरु तक पहुंचते है।”

नाज़नीन की यह पहल उन लोगों के लिए एक सबक की तरह है, जो देश को धर्म के नाम पर बांटने के प्रयासों में लगे हैं। वह धर्म ही नहीं, जो इंसान को बांटे। धर्म वह है, जो इंसान को इंसान से जोड़े रखता है।

Advertisement

नई कहानियां

सुहागरात से जुड़ी ये बातें बहुत कम लोग ही जानते हैं

सुहागरात से जुड़ी ये बातें बहुत कम लोग ही जानते हैं


नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं

नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं


मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक

मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक


PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!

PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!


अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?

अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Culture

नेट पर पॉप्युलर