LoC पर बढ़ाई जाएगी सुरक्षा व्यवस्था, आधुनिक उपकरणों से लैस होगी नियंत्रण रेखा

author image
Updated on 21 Sep, 2016 at 5:54 pm

Advertisement

कश्मीर के उरी मे हुए आतंकवादी हमले के बाद सुरक्षा के मद्देनजर अब सरकार का मुख्य एजेंडा लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता करना है।

अब नियंत्रण रेखा पर सुरक्षा की दूसरी पंक्ति बनाई जाएगी। सुरक्षा के लिहाज से डिटेक्शन डिवाइस (ग्राउंड सेंसर), थर्मल इमेजिंग और सर्विलांस लगाकर, तत्काल रूप से सुधार किए जाएंगे।

गौरतलब है कि 20 सितंबर को एक अभियान में LoC के पास लछीपोरा पर भारतीय सेना के जवानों ने 10 आतंकियों को ढेर कर दिया था।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, मल्टी एजेंसी सेंटर (MAC) के तहत आने वाले इंटेलीजेंस ब्यूरो, मिलिट्री इंटेलीजेंस और अर्धसैनिक बलों ने कहा है कि मौजूदा वक्त में LoC पर घुसपैठ की कार्रवाई सबसे अधिक हुई हैं। MAC खुफिया स्रोतों से एकत्र जानकारी का विश्लेषण करती है।

उरी हमले के बाद 19 सितंबर को गृहमंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार अजीब डोभाल और सुरक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच अहम बैठक में घुसपैठ के मुद्दे पर ही बातचीत हुई।

MAC की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अप्रैल से अगस्त के बीच करीब 80 घुसपैठियों ने नियंत्रण रेखा को पार किया था। सेना ने कहा है कि जनवरी-अगस्त के बीच 30 से अधिक घुसपैठियों को पकड़ा गया।

खतरे को भांपते हुए केंद्र सरकार सबसे पहले नियंत्रण रेखा पर सुरक्षा को बढ़ाने पर गंभीरता से काम कर रही है, ताकि उरी जैसे हमलों की नापाक साजिश रोकी जा सके।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement