लहंगे की 2 इंच कम लंबाई के लिए 8 साल केस लड़ती रही यह महिला

Updated on 14 Sep, 2017 at 9:38 pm

Advertisement

शादी के दिन हर लड़की सबसे सुंदर दिखना चाहती हैं। इसके लिए वह गहने, फुटवेयर से लेकर कपड़ों तक की शॉपिंग महीनों पहले से ही करने लगती है, ताकि उसके ब्राइडल लुक में कोई कमी न रह जाए। वैसे भी शादी के दिन सबकी नज़र दुल्हन पर ही तो रहती है, ऐसे में उसका परफेक्ट दिखना बहुत ज़रूरी है, लेकिन आपको यदि उसी दिन पता चले कि आपका लहंगा परफेक्ट नहीं है तो क्या? ज़ाहिर है दुनकानदार के ऊपर आपको बहुत गुस्सा आएगा। एक ऐसा ही मामला है दिल्ली का।

हालांकि, दिलचस्प बात ये है कि 8 साल पुराने इस मामले में पीड़ित लड़की को कोर्ट से इंसाफ मिल गया है।

ये मामला है 2008 का है, जब दिल्ली की एक लड़की ने अपनी शादी के लिए खास लहंगा सिलवाया था और जब उसने स्टूडियो में अपना लहंगा पहनकर ट्रायल दिया था उस समय ये लहंगा 2 इंच छोटा था और समान रूप से गोलाकार नहीं था। स्टूडियो ने महिला को विश्वास दिलाया कि शादी से पहले लहंगे को ठीक कर दिया जाएगा। जब स्टूडियो से ये लहंगा वापस आया तो लड़की को लगा कि अब ये ठीक हो गया होगा, इसलिए शादी से पहले इसे ट्राई नहीं किया। शादी के दिन इस महिला के होश उड़ गए जब पहनने पर लहंगा 2 इंच छोटा ही दिखा। हालांकि, अब महिला के पास कोई चारा नहीं बचा था। ऐसे में अपनी शादी के दौरान खुश होने के बजाए महिला शर्मिंदगी महसूस करती रही। शादी के कुछ दिनों बाद जब ये महिला अपने लहंगे को ठीक कराने के लिए वापस गई तो स्टोर के मैनेजर ने लहंगा रख लिया। इसके अलावा वर्कलोड और स्टाफ़ की कमी का बहाना बनाते हुए कई दिनों तक इस लहंगे के काम को अटकाए रखा।


Advertisement

इससे परेशान होकर लड़की ने कंज़्यूमर कोर्ट में केस दायर किया था और 8 साल बात उसे जीत मिली। चांदनी चौक ब्राइडल स्टूडियो, जहां से लड़की ने लहंगा बनवाया था, को लहंगे की कीमत यानी 64,000 रुपए उस लड़की को देने पड़े। साथ ही दिल्ली स्टेट कंज्यूमर डिस्प्युट्स कमीशन ने स्टूडियो को निर्देश दिया कि महिला को हैरेसमेंट और शर्मिंदगी सहने के लिए 50,000 रुपए की अतिरिक्त राशि भी दी जाए। यही नहीं, स्टूडियो को कंज्यूमर वेल्फ़ेयर ड में दंड के तौर पर भी पांच लाख रुपए भरने होंगे।

यानी स्टूडियो वाले को यह लहंगा बहुत महंगा पड़ गया।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement