मध्यमवर्गीय परिवार के बच्चे घर में ही सीख लेते हैं प्रबंधन के ये 9 जबर्दस्त गुण

Updated on 25 Apr, 2018 at 11:35 am

Advertisement

अगर आप मध्यमवर्गीय परिवार में जन्में हैं तो आप इस बात को अच्छी तरह समझते होंगे कि इस तरह के परिवार में बड़ा होना जितना मुश्किल होता है। उतना ही दिलचस्प भी। फैमिली ड्रामा से लेकर इमोशनल ब्लैकमेलिंग तक बहुत सी मज़ेदार चीज़ें होती हैं मध्यमवर्गीय परिवार में। इसके अलावा यहां आपको मैनेजमेंट स्किल भी सीखने को मिलती है।

1. चीज़ों का दोबारा इस्तेमाल- दूसरा प्लान तैयार रखना

पुराने कप को पेन स्टैंड बनाने से लेकर छोटे हो चुके कपड़े को छोटे भाई को पहनाने तक मध्यमवर्गीय परिवार में कई बेकार की चीज़ों को फिर से इस्तेमाल किया जाता है। प्रोफेशनल लाइफ में भी यदि इंसान ये गुण सीख ले तो बहुत आगे जाएगा। पुराने कपड़े जब छोटे भाई को भी छोटे हो जाते हैं तो उसका पोंछा बना दिया जाता है। यानी एक ही चीज़ के इतने सारे इस्तेमाल करके उस चीज़ की वैल्यू बढ़ा दी जाती है। दरअसल, इससे सीख मिलती है कि किसी को काम को करने के लिए कितने ज़्यादा विकल्प हो सकते हैं, हमे उस पर विचार करना चाहिए।

 

2. बड़े साइज़ का कपड़ा- बड़ी सोच

क्या आपने कभी सोचा कि मम्मी हमेशा एक साजड़ बड़ी टीशर्ट क्यों खरीदती थी? ताकि वो ज़्यादा समय तक चले। यानी ज़्यादा दिन चलेंगे तो पैसों की बचत होगी और उसके बाद जब कपड़े छोटे हो जाते हैं तो उसे छोटे भाई/बहन को दे दिया जाता है। यानी कपड़े का पूरी तरह से इस्तेमाल हो जाता है।

 

3. खाना बर्बाद न करना- टीम भावना

जब आप अपना पूरा खाना खत्म कर लेते हैं, उसके बाद भी यदि कुछ एक्स्ट्रा बचता है जो फ्रिज में नहीं आ रहा, तो परिवार के सभी सदस्य थोड़ा-थोड़ा खाकर इसे खत्म कर देते हैं। ये होती है टीम भावना।

 

4. परिवार में टीवी का अहम रोल होता है- अपडेटेड रहने की अहमियत

मिडिल क्लास फैमिली का हर सदस्य न्यूज़ से लेकर सीरियल तक हर चीज़ देखते हैं और इन मुद्दों पर बहस करने के लिए भी तैयार रहते हैं। टीवी देखने से वो देश-दुनिया की खबरों से वाकिफ रहते हैं। समय के साथ अपडेट रहने का गुण मैनेजमेंट क्षेत्र में सफल होने के लिए भी बहुत ज़रूरी है।

 

5. संघर्ष की कहानी- सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता


Advertisement

मध्यमवर्गीय परिवार में बच्चों को अपने माता-पिता और दूसरे रिश्तेदारों के संघर्ष के बारे में पता होता है या बड़े-बुजुर्ग हमेशा उनसे अपने संघर्ष के बारे में बताते रहते हैं, जिससे बच्चों को भी ये बात समझ आ जाती है कि हर चीज़ मेहनत से ही मिलती है। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता।

 

6. अपनी जड़ों को न भूलना- सिद्धांतों की अहमियत

मिडिल क्लास फैमिली में सिद्धांतों को बहुत महत्व दिया जाता है। पैसे आने के बाद भी ये लोग अपनी जड़ों को नहीं भूलते जो बहुत अच्छी बात है।

 

7. मुफ्त के उपहार से मिली खुशी- पैसों से हमेशा खुशी नहीं खरीदी जाती

सब्ज़ी वाले के पास से सब्जी खरीदने के बाद जब मुफ्त में मिर्ची और धनिया लेकर आपकी मां लौटती है तो क्या आपने उसके चेहरे की खुशी देखी है? मुफ्त में मिली चीज़ों से जो खुशी होती है कई बार वो पैसों से नहीं खरीदी जा सकती।

 

8. लाइट बंद करो- पर्यावरण के प्रति जिम्मेदारी

मिडिल क्लास फैमिली में रहने वाले पर्यावरण के प्रति भी जिम्मेदार होते हैं। बिजली-पानी की बचत के साथ ही कोलाकोला और पेप्सी को बोतल में पानी भरकर पर्यावरण को बहुत ज़्यादा प्लास्टिक से होने वाले नुकसान से भी बचाते हैं।

 

9. चीज़ों को आखिरी तक इस्तेमाल करना – अपनी योजना पर आखिरी तक टिके रहना

टूथपेस्ट और फेसवॉश की ट्यूब को पूरी तरह से निचोड़कर इस्तेमाल करना। शैंपू खत्म हो जाने पर उसमें पानी डालकर इस्तेमाल करने हुनर सिर्फ़ मिडिल क्लास फैमिली वालों को ही होता है। वो किसी भी चीज़ों को तक तक इस्तेमाल करते हैं, जब तक कि वो पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाती।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement