लता मंगेशकर ने की शहीदों के परिवारों को मदद देने की अपील

author image
Updated on 28 Sep, 2016 at 3:53 pm

Advertisement

भारतरत्न लता मंगेशकर का आज 87 वां जन्मदिन है। वह इस बार अपना जन्मदिन नहीं मनाएंगी।

उन्होंने अपने प्रशंसकों से उन्हें तोहफा न भेजकर सीमा पर तैनात सेना के बहादुर जवानों को याद करने और उनके लिए दान करने की अपील की है। उन्होंने ट्विटर पर अपील करते हुए लिखा:

“नमस्कार, मैं ऐसा मानती हूं कि माता, पिता, गुरु, मातृभूमि और मातृभूमि के रक्षक हमारे वीर जवान, जो देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की भी परवाह नहीं करते, उन्हीं की वजह से हम सुरक्षित रहते हैं। हमारा भी यह परम कर्तव्य बनता है कि हम उनके लिए अपनी तरफ से जो भी कुछ हो सके, वो जरूर करें। मैं अपनी तरफ से अपने वीर जवान भाइयों के लिए Army welfare fund battle casualties में कुछ धन राशि अर्पण कर रही हूं। मेरे ऊपर आपका यह एहसान होगा अगर आप सब भी यथाशक्ति इस कार्य में अपना योगदान दें। 28 सितंबर को मेरा जन्मदिन है। आप हर साल मुझे स्नेहपूर्वक हजारों की संख्या में फूल, मिठाइयां, केक, कार्ड भेजते हैं। मेरा आप सबको विनम्र निवेदन है कि इस वर्ष मुझे ये सब भेजने की बजाए आप वही धन राशि, और जितनी अधिक आप से हो सके वह आप अपने वीर जवान भाइयों के लिए अर्पण करें। मुझे आशा है कि आप का प्यार और आशीर्वाद ऐसे ही बना रहेगा। जय हिन्द ,वंदे मातरम।”

इस अपील के साथ ही लता मंगेशकर ने आर्मी फंड से जुड़ी जानकारी भी पोस्ट की है। अगर आप भी देश के जवानों और उनके परिवार की मदद के लिए अपना विशेष योगदान देना चाहते हैं तो  इस अकाउंट पर धन राशि भेज सकते हैं:

Fund Name: Army welfare fund battle casualties


Advertisement

Bank: Syndicate Bank South Block  New Delhi, 110011.



Branch Code: 9055

IFSC: SYNB0009055

A/C No:90552010165915

आपको अगर याद हो तो 53 साल पहले चीन के साथ युद्द में शहीद हुए भारतीय जवानों की याद में लता मंगेशकर ने ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ गाया था। कवि प्रदीप के लिखे इस गीत के बोलों को जब लताजी ने दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में गाया, तो इसे सुनने के बाद देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु की आंखे भर आईं थी। वहां बैठे हर शख्स की आंखें नम थीं।

पिछले सप्ताह उरी में हुए आतंकी हमले की लताजी ने कड़े शब्दों में आलोचना की थी। उरी हमले में देश ने अपने 18 जवानों को खो दिया।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement