काले जादू की धरती है असम का मायोंग गांव

author image
Updated on 11 Dec, 2015 at 5:18 pm

Advertisement

असम के मायोंग को काले जादू की धरती कहा जाता है। पूर्वोत्तर के इस राज्य में यह स्थान खुद में कई रहस्यों को छुपाए हुए है। कहा जाता है कि मायोंग शब्द संस्कृत शब्द माया से लिया गया है। और इसका शाब्दिक अर्थ होता है सम्मोहन।

जादुई दुनिया

गुवाहाटी शहर से करीब 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मायोंग गांव को जादू की दुनिया कह सकते हैं। इसके बारे में कहा जाता है कि यहां लोग गायब हो जाते हैं। या फिर जानवरों में बदल जाते हैं। यही नहीं, यह भी कहा जाता है कि यहां के लोग जंगली जानवरों पर भी सम्मोहन का जादू चला देते हैं, जिससे ये जानवर पालतू बन जाते हैं।

कई पीढ़ियों से चल रहा है जादू का शगल


Advertisement

मायोंग के लोग आदिकाल जादू-टोना की कला में पारंगत रहे हैं। दरअसल, यह उनका शगल रहा है। वे अपनी आने वाली पीढ़ी को इस कला की शिक्षा देते हैं, जिससे यह अब तक फल-फूल रही है।

खास है मायोंग सेन्ट्रल म्युजियम

मायोंग सेंट्रल म्युजियम कई मायनों में खास है। यहां स्थानीय परम्परा से जुड़ी तमाम चीजें मिल जाती हैं। यही नहीं, आयुर्वेद और काले जादू के बहुत से प्राचीन अवशेष यहां पर अब भी मौजूद हैं। मायोंग गांव पबित्रा वाइल्ड लाइफ सेंक्चुअरी के पास स्थित है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement