सेना का ये जवान कभी आतंकी हुआ करता था, आज देश की रक्षा करते हुए हुआ शहीद

Updated on 28 Nov, 2018 at 3:41 pm

Advertisement

आपने आतंकियों के खौफ और बर्बरता के बारे में तो बहुत कुछ सुना होगा, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे आतंकी के बारे में बताने जा रहे है जो देश के लिए शहीद हो गया। सुनकर अजीब ज़रूर लगा होगा आपको लेकिन यह सच है। रविवार को जम्मू-कश्मीर में हुए आंतकी मुठभेड़ में सेना का जो जवान शहीद हुआ वो कभी आतंकी हुआ करता था।

 

 


Advertisement

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में हुए 38 साल के लांस नायक नजीर अहमद वानी शहीद हो गए। इनकी शहादत इसलिए बाकी सैनिकों से अलग है, क्योंकि वानी कभी खुद एक आतंकी हुआ करते थे, लेकिन जब वो देशभक्त बने तो पूरी तरह से। वानी को अपनी बहादुरी के लिए सेना मेडल से सम्मानित किया गया था। वानी कुलगाम के चेकी अश्मुजी गांव के रहने वाले थे।

आतंक से जब उनका मन भर गया तो उन्होंने आत्मसमर्पण करने के बाद करियर की शुरुआत 2004 में टेरिटोरियल आर्मी की 162वीं बटालियन से की थी। आपको बता दें कि रविवार की मुठभेड़ में 6 आतंकी मारे गए थे।

 

 



आर्मी के मताबिक, जहां मुठभेड़ हुआ वहां से बड़ी मात्रा में हथियार मिले हैं। इलाके में आतंकियों के छुपे होने की खबर उन्हें आधी रात को मिली, तो सेना ने इलाके की घेराबंदी कर तलाश शुरू कर दी। इस बीच आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर गोलियां चली दी। सुरक्षा बलों ने आतंकियों को मुंह तोड़ जवाब दिया। मुठभेड़ के दौरान ही वानी को गोलियां लग गई, उन्हें तुरंत अस्पताल तो ले जाया गया, मगर उनकी जान नहीं बच पाई। सोमवार को पूरे सम्मान के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी गई। वानी के परिवार में उनकी पत्नी और दो बच्चे हैं।

 

 

वानी की शहादत किसी मिसाल से कम नहीं। उन्होंने साबित कर दिया कि बुराई की राह छोड़कर अच्छाई और सच्चाई की राह पर चलना इतना मुश्किल भी नहीं है जितना लोग सोचते हैं।

 

(शहीद लांस नायक नजीर अहमद वानी) mrtyar Lance Naik Nazir Ahmed Wani

thequint


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement