शानदार है कुर्नूल की समृद्ध सांस्कृतिक और पारंपरिक विरासत

author image
Updated on 29 Aug, 2018 at 6:16 pm

Advertisement

आंध्र प्रदेश में स्थित कुर्नूल अपने समृद्ध सांस्कृतिक व पारंपरिक विरासत की वजह से आज भी उन लोगों के लिए अनुकूल है, जो इतिहास को बेहद करीब से देखना चाहते हैं। मध्ययुग के दौरान विजयनगर राजघराने के राजाओं द्वारा बनाए गए ऐतिहासिक किलों के भग्नावशेष उन दिनों के समृद्धि की कहानी आज भी कहते नजर आते हैं। सातवीं सदी से पहले यहां विजयनगर घराने के प्रतापी राजा कृष्णदेव राय का शासन था। कृष्णदेव राय के शासनकाल में विजयनगर की समृद्धि दूर-दूर तक फैली थी।

goroadtrip
कोंडा रेड्डी बुर्ज

वहीं, कोंडा रेड्डी बुर्ज और अब्दुल वहाब का मकबरा पर्यटकों को लुभाता है। कुर्नूल का पेटा अजान्यस्वामी मंदिर, नागारेश्वरस्वामी मंदिर, वेनुगोपालस्वामी मंदिर देखना यादगार अनुभव है। शिरडी का साईं बाबा मंदिर भी इसके नजदीक है।

कुर्नूल का इतिहास कई हजार साल पुराना है।

trawell
कोंडा रेड्डी बुर्ज

कुर्नूल शब्द की उत्पत्ति दरअसल कंडनवोलू से हुई है। प्रचीन साहित्य और शिलालेख से पता चलता है कि कंडनवोलू इस स्थान का तेलुगू नाम है। शहर की परिधि से करीब 18 किलोमीटर दूर स्थित केटावरम में पाए गए रॉक पेंटिंग्स का संबंध पषाण काल से है। जुरेरू वैली, कतावाणी कुंता और योगंती चट्टान कलाओं की जब कार्बन डेटिंग की गई तो पता चला कि ये करीब 35 हजार साल से लेकर 40 हजार साल पुरानी हैं।

chaibisket
केटावरम का रॉक पेंटिंग


Advertisement

मध्ययुग के दौरान चीनी यात्री झुआनजंग ने अपनी अपनी कराची की यात्रा के दौरान कुर्नूनल को पार किया था। इस यात्रा वृत्तांत चीन के इतिहास में मिलता है।

1667 में यहां मुगलों ने अधिकार कर लिया और फिर बाद में आंध्र प्रदेश के कुर्नूल क्षेत्र पर नवाबों ने कब्जा जमा लिया। बाद में नवाबों ने इसे स्वतंत्र घोषित कर दिया और फिर करीब 200 साल तक कुर्नूल पर स्वतंत्र क्षेत्र के रूप में शासन किया। 18वीं शताब्दी में नवाबों और अंग्रेजों के बीच युद्ध भी हुए।

कुर्नूल में नवंबर और दिसंबर में कार उत्सव का भी आयोजन किया जाता है। आठ दिन तक चलने वाला यह उत्सव श्री अजान्यस्वामी को समर्पित होता है।

यह स्थान देश के सभी प्रमुख इलाकों से बेहतर तरीके से जुड़ा हुआ है। अगर ऐतिहासिक स्थानों में आपकी रूचि है तो आप कुर्नूल घूमने के लिए जा सकते हैं। घूमने के लिहाज से यहां बरसात के बाद का मौसम बेहतर होता है।

कुर्नूल घूमना एक अच्छा अनुभव साबित हो सकता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement