इस मशहूर अमिनेत्री के साथ काम नहीं करने की वजह से फ्लॉप हो गए थे कुमार गौरव

Updated on 13 Jul, 2018 at 11:06 am

Advertisement

कुमार गौरव ने 80 के दशक में बॉलीवुड में एक उभरते हुए कलाकार के रूप में कदम रखा था।  साल 1981 में उनकी पहली फिल्म ‘लव स्टोरी’ ब्लॉकबस्टर साबित हुई, इसके बाद वो रातों-रात सुपरस्टार बन गए। उन्होंने बॉलीवुड में ‘तेरी कसम’, ‘नाम’ और ‘कांटे’ जैसी कई हिट फिल्में दी। इस दौर में उन्हें फिल्म जगत का चॉकलेटी बॉय भी कहा जाने लगा था। हालांकि, इसके बाद उनकी कई फिल्में बॉक्स ऑफिस पर पिटने लगी और उनका करियर पूरी तरह खत्म हो गया।

 

 


Advertisement

कुमार गौरव दिवंगत अभिनेता राजेंद्र कुमार के बेटे हैं। राजेंद्र कुमार ने अपने करियर के दौरान कई हिट फिल्में दीं, जबकि उनके बेटे कुमार गौरव कई कोशिशों के बाद भी बॉलीवुड में अपना सिक्का नहीं चला सके। साल 1999 में राजेंद्र कुमार की कैंसर के कारण मौत हो गई, और तब तक कुमार गौरव का करियर पूरी तरह खत्म हो चुका था। बॉलीवुड में कुमार गौरव के नहीं चल पाने की वैसे तो कई वजहें हो सकती हैं, लेकिन कुछ मुख्य कारण थे जिनके जलते वे फिल्म जगत से दूर होते गए।

 

 

बॉलीवुड में स्टारडम पाना जितना मुश्किल है, उससे कहीं ज्यादा मुश्किल उसे संभालना है। उस वक्त कुमार गौरव भी इस स्टारडम को संभाल नहीं सके। कई फिल्में हिट होने के बाद उन्होंने नई एक्ट्रेसेज के साथ काम करने से इंकार करना शुरु कर दिया।



इस बीच, फिल्म निर्देशक दिनेश बंसल ने अपनी अगली फिल्म “शिरीन फरहाद” के लिए नई अभिनेत्री यासमीन को कुमार गौरव के अपोजिट साइन किया, लेकिन कुमार ने इस फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया।

 

 

निर्माताओं ने उन्हें समझाने की काफी कोशिश की, लेकिन कुमार नहीं माने। इसके चार साल बाद फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ के लिए यासमीन को सिलेक्ट किया गया। तब तक यासमीन एक मशहूर एक्ट्रेस बन चुकी थीं और उन्होंने अपना नाम बदलकर मंदाकिनी रख लिया था। यह फिल्म बड़ी हिट साबित हुई।

 

 

इसके बाद एक समय ऐसा आया जब बॉलीवुड की कोई भी बड़ी अभिनेत्री कुमार गौरव के साथ काम करने को तैयार नहीं थी, जिसमें एक्ट्रेस मंदाकिनी भी शामिल थीं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement