NIA के इस जांबाज अफसर ने 24 गोलियां झेलकर बचाई बच्चों की जान

author image
Updated on 26 Sep, 2016 at 5:11 pm

Advertisement

नेशनल इन्वेस्टिगेटिंग एजेंसी (NIA) के अधिकारी तंजील अहमद ने खुद पर 24 गोलियां लेकर बच्चों को मरने से बचा लिया। उनकी उत्तरप्रदेश के बिजनौर के सहसपुर इलाके में नृशंस हत्या कर दी गई थी।

उनपर अज्ञात बाइक सवारों ने 24 गोलियां दागी, जिनका सिर्फ एक ही मकसद था तंजील की मौत। जैसे ही हमलावरों ने तंजील पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू की वैसे ही तंजील ने तुरंत पिछली सीट पर बैठे बच्चों को नीचे की ओर छुपने के लिए कहा।

हमलवारों के खतरनाक इरादों का अंदेशा तंजील को हो चुका था। इस हमले में उनके दोनों बच्चे सलामत बच गए। इस वारदात में उनकी पत्नी फरजाना घायल हो गई, जिन्हें चार गोलियां लगी। तंजील अहमद के आखिरी शब्द अपने बच्चों के लिए थे ‘सिर निचे’, दोनों बच्चे सीट के नीचे छुप गए, जिससे उनकी जान बच गई।



इस पूरे हमले को लेकर पुलिस का कहना है कि हमलावरों के निशाने पर तंजील अहमद ही थे। इस वारदात को सोची-समझी साजिश के तहत अंजाम दिया गया।


Advertisement

मूलरूप से बिजनौर के सहसपुर के रहने वाले तंजील अहमद परिवार के साथ दिल्ली में रहते थे। वह बिजनौर के सहसपुर इलाके में अपनी भांजी की शादी के लिए बिजनौर आए हुए थे। शादी से लौटते समय दो अनजान हमलावरों ने उनकी कार रुकवाई। जिसके बाद हमलावरों ने तंज़ील अहमद पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई, जिसके बाद उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

Tanzil Ahmed

indianexpress


Advertisement

NIA अधिकारी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आया कि तंजील अहमद को 24 गोलियां मारी गई, जिनमें से 12 गोलियां पेट और गले से निकाली गई, 9 शरीर के आरपार हो गई थी और 3 गोलियां शरीर को छूकर निकल गई थी।

आपके विचार


  • Advertisement