इस गांव में होता है ग्रामीण भारत का ओलिम्पिक; विदेशी भी मानते हैं पारम्परिक खेलों का लोहा

author image
Updated on 19 Dec, 2015 at 1:54 pm

Advertisement

अगर अापको कोई कहे कि भारत में ओलिम्पिक खेलों का आयोजन होता है तो आप मानेंगे। जी हां, ग्रामीण भारत का अपना ओलिम्पिक है और इसका आयोजन प्रतिवर्ष किया जाता है, पंजाब के किला रायपुर गांव में।

यहां के खेल इतने रोचक होते हैं कि आप दांतों तले अंगुली दबाने पर मजबूर हो जाएंगे। यहां के खिलाड़ी न केवल दौड़ जैसी प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं बल्कि दांतों से ईंटें उठाना औह हल उठाने जैसी प्रतियोगिताएं भी आम हैं। यहां तक कि 70 से 75 वर्ष के उम्र के बुजुर्ग भी इन खेलों में हिस्सा लेते हैं।

wordpress

wordpress


Advertisement

लुधियाना शहर से सिर्फ 18 किलोमीटर दूर किला रायपुर में इस अनोखे खेल मेले की शुरुआत हुई वर्ष 1933 में। माना जाता है कि इन खेलों की शुरूआत की थी गांव के ही ग्रेवाल परिवार ने। वर्ष 1932 में भारतीय हॉकी टीम लॉस एंजिल्स ओलंपिक्स से स्वर्ण पदक लेकर लौटी थी, इससे उत्साहित होकर ग्रेवाल परिवार ने भी यहां ग्रामीण ओलिम्पिक शुरू कर दिया।

शुरू में तो यहां हॉकी और कबड्डी जैसे खेल ही शामिल थे। लेकिन बाद में दो घोड़ों की सवारी, घोड़े पर बैठ निशानेबाज़ी, घुड़सवारी आदि को भी खेलों में शामिल कर लिया गया।

इन खेलों की लोकप्रियता इतनी अधिक है कि इसमें भाग लेने के लिए देश भर से ही नहीं, विदेशों से भी लोग आते हैं।

staticflickr

staticflickr


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement