गांव को सूखे से बचाने के लिए केरल में महिलाओं ने खोद डाले 190 कुएं

author image
Updated on 13 Jul, 2017 at 7:29 pm

Advertisement

अपने गांव को सूखे की चपेट में आने से बचाने के लिए केरल में महिलाओं ने 190 कुएं खोद डाले और पानी की समस्या से निजात पा लिया। यह कारनामा उत्तरी पलक्कड़ जिले पुक्कट्टुकु गांव की 300 महिलाओं ने कर दिखाया है। गांव की आबादी 20 हजार के करीब है।

ये महिलाएं अलग-अलग समूहों में बंटकर कुएं की खुदाई करती थीं। तमाम दुश्वारियों का सामना करने के बावजूद ये महिलाएं अपने लक्ष्य से पीछे नहीं हटीं।

सीढ़ी की सहायता से कुएं में उतरकर कुदाल और फावड़े से खुदाई का काम अनवरत चलता रहा, जब तक कि लक्ष्य पूरा नहीं हो गया। ये कुएं 80 फुट से अधिक गहरे हैं।


Advertisement

इन महिलाओं की उम्र 35 से 70 साल के करीब है। उन्होंने सूखे से जूझ रहे अपने गांव में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत पिछले अगस्त से अब तक 190 कुएं खोद लिए हैं। अब इस गांव में सूखे का असर नहीं है। खास बात यह है कि यहां की जमीन चट्टानी है और महिलाओं ने बिना किसी मशीन की मदद से एक कुएं खोदे हैं।

केरल सरकार ने बारिश की कमी के बाद पिछले साल अक्टूबर महीने में राज्य को सूखा पीड़ित घोषित किया था। राज्य की अधिकतर नदियां सूख चुकी हैं।

इस गांव में कुएं और छोटे तालाब पानी का जरिया हैं। यह गांव अब तक पीने के पानी के लिए टैंकरों पर निर्भर रहा था। अब यह पानी के मामले में आत्मनिर्भर बन गया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement