केरल के चर्च ने पेश की मिसाल, आम जनता के लिए खोल दी अपनी दान पेटी

author image
Updated on 15 Nov, 2016 at 4:32 pm

Advertisement

500 और 1000 रुपये के नोटबंदी का असर पूरे देश पर पड़ा है। देश के तमाम शहरों से मलिज़ुली प्रतिक्रिया आ रही है। जहाँ एक तरफ लंबी क़तारों में आम जनता को परेशान देखा जा सकता है, वहीं कोच्ची के एक चर्च ने नोटबंदी के इस दौर में अपनेऑफरिंग बॉक्स (दान पेटी) आम जनता के लिए खोल कर एक दूसरे का साथ देकर मदद करने की मिसाल पेश की है।

कोच्चि के इस चर्च के पादरी जिम्मी ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीते के दौरान कहा, हमारी दान पेटी में खुल्ले पैसे हैं। जिन लोगों को जरूरत है वह आकर यहां से ले जा सकते हैं और जब उनका मन करे वापस कर सकते हैं।

हालाँकि पुराने नोट सरकारी हॉस्पिटल, पेट्रोल पंप पर मान्य हैं। इसके बावजूद देश के तमाम अस्पतालों से ऐसी खबरें आ रही हैं की मरीज़ों के पास रुपयों की बदली ना होने के कारण उन्हे लौटाया जा रहा है और कई जगहों पर इलाज ना मिल पाने के कारण मौत की घटनायें भी सुनने को मिली है। तो वही पेट्रोल पंपों का भी हाल बेहतर नही है। बैंको और एटीएम के बाहर लंबी कतारें लगी है। ऐसे में केरल के चर्च का यह कदम अनुठा भी है और सराहनीय भी।

गौरतलब है कि सरकार द्वारा कई तरह के भरोसे देने के बावजूद बैंकों और एटीएम के बाहर भीड़ कम होने का नाम नहीं ले रही। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था। जिसके बाद लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

एक बार फिर इंसानियत और मानवता की मिसाल पेश करते हुए चर्च ने यह प्रशंसनीय कदम उठाया है। जिसके लिए चहुतरफ से सराहना प्राप्त हो रही है, जो हमें सीख भी देती है कि अगर किसी समस्या से देश को सामना करना पड़ रहा है तो उसका सामाधान आपसी सहयोग से ही सरल हो सकता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement