Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

मनुष्य और प्रकृति एक दूसरे के साथ खूबसूरती से रह सकते हैं, ट्रेन स्टेशन पर 700 साल पुराना वृक्ष है प्रमाण

Published on 25 January, 2017 at 6:44 pm By

जापान के ओसाका शहर के उत्तर-पूर्व में स्थित एक ट्रेन स्टेशन इस बात का सबूत है कि मनुष्य और प्रृकृति एक-दूसरे के साथ खूबसूरती से रह सकते हैं। कायाशिमा नामक इस स्टेशन की खासियत है यहां एक 700 वर्ष पुराने वृक्ष का होना, जो प्लेटफॉर्म के शेड के इर्द-गिर्द फैला हुआ है।


Advertisement

यहां पहली बार वर्ष 1910 में स्टेशन बनाया गया था। आबादी बढ़ने पर करीब 60 साल बाद वर्ष 1972 में इस स्टेशन के विस्तार की बात आई, तब इसकी जद में यह पेड़ भी आ गया।



नई इमारत बनाने के लिए अधिकारियों ने इस पेड़ को काट कर हटा देने निर्णय ले लिया। लेकिन जब अधिकारियों ने काम शुरू किया तो कई तरह की दिक्कतें सामने आ गईं। इस पेड़ का डाल काटने की कोशिश करने वाले एक व्यक्ति को अगले ही दिन तेज बुखार हो गया।

वहीं, इसे काटने के लिए काम लगाए गए मजदूरों को पेड़ की जड़ से धुआं निकलता दिखाई दिया। जब इसके बारे में स्थानीय लोगों को पता चला तब उन्होंने इस पेड़ के काटे जाने का विरोध बड़े पैमाने पर करना शुरू कर दिया। बाद में इस वृक्ष को आस्था से जुड़ा मामला बताकर यहां रहने दिया गया।


Advertisement

हालांकि, अब यह वृक्ष इस बात का जीता-जागता प्रमाण है कि विकास के लिए पर्यावरण या प्रकृति को नुकसान पहुंचाए बिना भी काम किया जा सकता है।

Advertisement

नई कहानियां

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग


Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Nature

नेट पर पॉप्युलर