Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

मिलिए कश्मीर के शहीद दबंग इंस्पेक्टर से जिससे घाटी का आतंकवाद भी ख़ाता था ख़ौफ़

Published on 22 August, 2016 at 2:43 pm By

कश्मीर धधक रहा है, तो उसकी आँच से पूरा भारत भी जल रहा है। जो भारत विरोधी गतिविधियाँ संवेदनशील राज्य कश्मीर तक सीमित थीं, उसकी आवाज़ अब दिल्ली जैसे महानगर से बढ़ कर बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों तक सुनाई देने लगी हैं। अगर इस वर्ष का घटनाक्रम देखा जाए तो भारत ने अलगाववाद का जो जख्म झेला है, उससे उमर खालिद तो कभी बुरहान वानी जैसे घातक रोग पनपे हैं। इसका असर इस कदर बढ़ा है कि पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे से लेकर मुठभेड़ में शहीद हुए जवान की खबरों ने भारत विरोधी ज़ख़्मों को और भी गहरा किया है ।


Advertisement

हैरानी की बात यह है कि इस अलगाववादी मर्ज़ का रामबाण कहे जाने वाली भारतीय सेना के खिलाफ भी नफ़रत के संदेश फैलाए जा रहे हैं। हालात इस कदर गंभीर हैं कि अपने देश और देशवासियों के लिए हमेशा फौलाद से खड़े रहने वाले जवानो पर पथराव हो रहे हैं। वहीं, मीडिया और अलगाववादी नेताओं ने देश विरोधी सोच रखने वाले उमर खालिद और आतंकवादी बुरहान वानी को कश्मीर का ‘पोस्टर बॉय’  बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

बुरहान वानी, जिसको बहादुर सुरक्षा दलों ने मार गिराया था उसके लिए अलगावादी तो अलगावादी, कई पत्रकारों ने भी अपने आंसू दिखाए। इसका असर यह हुआ कि घाटी में तनाव की स्थिति बनी और जो आवाज़ सीमा पार से दबे पांव चलकर आती थी, वह आवाज़ बेखौफ़ होकर हाथ में पत्थर लिए सेना के खिलाफ खड़ी दिखी। इसे खामोश करने के लिए सेना को पैलेट गन का इस्तेमाल करना पड़ा। पैलेट गन का मुद्दा नया है और अभी यह कुछ दिन खिंचेगा।

लेकिन आज जिस शख़्स से मैं आपको मिलवाने जा रहा हूँ, उसको असल में आप ‘पोस्टर बॉय’ कह सकते हैं। यह कोई और नहीं, बल्कि भारत के सबसे उम्दा आतंकवाद विरोधी पुलिस अधिकारियों मे से एक, साइबर ब्वॉय और 24 घंटे ड्यूटी काप कहलाने वाले मोहम्मद अल्ताफ डार हैं। उनका खौफ इतना था कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI उन्हें ‘अल्ताफ़ लैपटॉप’ के नाम से पुकारती थी। यह अलग बात है कि भारत के लिए शहीद हुए देश की शान, जांबाज़ सब इंस्पेक्टर अल्ताफ को हम-आप भुला चुके हैं!

कौन थे अल्ताफ़ लैपटॉप, और इनके नाम से क्यों कांपते थे आतंकवादी

बहुत कम ही लोग जानते हैं कि अल्ताफ अहमद डार उर्फ अल्ताफ़ लैपटॉप को जम्मू एवं कश्मीर में उनके बेहतरीन खुफिया कार्यों के लिए जाना जाता था। घाटी में वर्ष 1989 से पनपे हिजबुल मुजाहिदीन के नेटवर्क को अल्ताफ़ लैपटॉप ने 2006-2007 के बीच में लगभग ध्वस्त कर दिया था। यही नहीं, उनके विशिष्ट काउंटर -इंटेलिजेंस की मदद से सेना ने 200 आतंकवादियों को मारने में सफल रही थी।

अल्ताफ की नियुक्ति कांस्टेबल के रूप में हुई थी, लेकिन उनकी काबीलियत को देखते हुए उनके 15 साल के करियर में पांच प्रमोशन दिए गए। 

बताया जाता है कि 2005 में अल्ताफ जब श्रीनगर में एक थाने के मुंशी थे, तब उन्होने एक लैपटॉप ऋण लेकर खरीदा था। इसी उधार के लैपटॉप के द्वारा उन्होने आतंकवादियों के फोन कॉल की रिकॉर्डिंग और उनके लोकेशन तलाशना शुरू किया था। बाद में इनकी काबीलियत देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों ने इन्हे आतंकवाद विरोधी इकाई की स्पेशल सेल में शामिल कर लिया।

इसी दौरान अल्ताफ़ ने शहर के एक प्रतिष्ठित व्यवसायी नजीर महाजन के हाईप्रोफाइल मर्डर की गुत्थी सुलझा कर विभाग में और आतंकियों के बीच अल्ताफ लैपटॉप के नाम से मशहूर हो गए


Advertisement

अल्ताफ़ स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का नेतृत्व कर रहे थे। उनका कौशल, तकनीकी पर बेहतरीन पकड़ और बेजोड़ साहस की वजह से कश्मीर को दोबारा स्वर्ग बनाया जा सका था। वर्ष 2010 में अलगाववादी नेता मसरत आलम की गिरफ्तारी उसके बाद हिजबुल मुजाहिदीन कमांडरों की गिरफ्तारी, जिसमें गाजी मिस्बाह और मुजफ्फर अहमद डार जैसे आतंकवादी संगठनो के प्रमुख भी शामिल थे। आतंकवाद पर नकेल कसते हुए जुनैद -उल- इस्लाम संगठन के प्रवक्ता के अलावा परवेज मुशर्रफ और हनीफ खान जैसे आतंकवादियों को गिरफ्तार कर एक हद तक आतंकवाद को घुटने टेकने पर विवश कर दिया था।

वर्ष 2012 में जब पुलिस विभाग अपने अधिकारियों की हत्या की जांच कर रही था, तब अल्ताफ़ लैपटॉप ने अब्दुल राशिद शिगन जो खुद भी एक पुलिसकर्मी था, को गिरफ्तार कर मामले को सुलझाया था। अब्दुल राशिद शिगन की गिरफ्तारी इसलिए भी अधिक मत्वपूर्ण थी, क्योंकि वह एक आतंकवादी मॉड्यूल को चलाने में मदद कर रहा था। उस पर 13 आतंकवादी हमले करने और करवाने का आरोप था।



अल्ताफ़ ने अपने नेटवर्किंग क्षमता से जमीयत -ए- अहले हदीस के प्रमुख मौलाना शौकत अहमद शाह की हत्या को सुलझाया था। यही नहीं, अल्ताफ की योग्यता को देखते हुए एनआईए के अधिकारी आतंकवाद की समस्या को समझने के लिए प्रशिक्षण प्राप्त करने इस होनहार इन्सपेक्टर के पास आते थे।

और एक दिन कश्मीर ने अल्ताफ़ को खो दिया

37 वर्षीय अल्ताफ़ उन दिनों लश्कर-ए- तैयबा (एलईटी) के कमांडर अबू कासिम के पीछे लगे हुए थे। अल्ताफ कई बार इस आतंकवादी को ट्रैक करने में कामयाब रहे थे, लेकिन हर बार कासिम पुलिस और अर्धसैनिक बलों के हाथ से बच के निकल जाता था ।

7 अक्टूबर 2015 को अल्ताफ़ को अपने नेटवर्क से पुख़्ता जानकारी मिली कि क़ासिम कुछ आतंकवादियों को एक सभा के ज़रिए संबोधित करने जा रहा है। जानकारी मिलते ही अल्ताफ़ अपने एक साथी गजनफर के साथ कार्रवाई करने निकले। अल्ताफ़ को पुख़्ता खबर थी कि क़ासिम अपने एक निजी वाहन से सफ़र कर रहा था। अल्ताफ़ ने उसका पीछा किया, लेकिन दुर्भाग्यवश मुठभेड़ में अल्ताफ़ और उनका साथी घायल हो गया। सेना के हेलीकॉप्टर से दोनों घायलों को बादामीबाग बेस अस्पताल लाया गया, जहां उन्हें शहीद घोषित कर दिया गया।

जब देश ने खोया अल्ताफ़ तो और भी बहुत कुछ खोया कश्मीर ने

“हम युद्ध की बात करते हैं, इसे कैसे लड़ा गया उस साहस की बात करते हैं। हम शहीद हुए भारत के शूरवीरों की बात करते हैं। हम हर युद्ध के परिणामों की बात करते हैं। हम जीत की बात करते हैं। पर इसके लिए हमने पीछे क्या खोया है? इसकी बात कभी नही करते। और क्यों नही करते, इस पर बहस ज़रूरी है।”

अल्ताफ के शहीद होने के लगभग 20 दिन बाद ही सुरक्षाबलों ने एक मुठभेड़ में अबू कासिम को मार गिराया। यह आतंकवाद पर एक बड़ी जीत थी। इस खबर को एक बड़ी उपलब्धि के साथ अख़बारों टीवी में दिखाया गया। और यह जीत बड़ी थी भी। लेकिन अफ़सोस होता है कि जिस आतंकवादी को बेहद कमज़ोर करने में जिस अल्ताफ़ की भूमिका अहम थी, उसको लिखने के लिए पत्रकारों की स्याही थोड़ी कम पड़ गई। इसलिए जब अब कश्मीर के हालत बेहद नाज़ुक है तो यह जानना भी बेहद ज़रूरी है कि आख़िर हमने खोया क्या है ?

शायद मेरे शब्द कभी भी इस शहादत के दर्द को लिख नहीं पाएं, लेकिन जब कभी अल्ताफ़ के चार और दो साल के छोटे बच्चों का स्मरण मात्र करता हूं, तब मेरा दिल दहल जाता है जब अल्ताफ़ को अंतिम विदाई देने आए उनके साथी और तमाम पुलिसकर्मियों को एक दूसरे के गले लग बिलखते रोते देखता हूं, तो एक साथी एक दोस्त के लिए ज़ज्बात आंखों से बहते देखता हूं एक इंस्पेक्टर की शहादत पर जुटे तत्कालीन मुख्यमंत्री मुफ़्ती मोहम्मद सईद के साथ पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और राज्य के पुलिस प्रमुख के साथ पूर्व डीजीपी जैसे हस्तियों को जब करुणा से भरे भाव में खामोश देखता हूं, तो यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि देश ने एक काबिल अफ़सर खोया है

कश्मीर ने अपना बेटा खोया। वो भी ऐसी संतान जो कश्मीर में पैदा हुआ कश्मीर में पला-बढ़ा और अंत में कश्मीर के लिए शहीद हुआ। क्या यह प्रश्न आप के ज़हन में नही आता कि क्या हम बहुत आदी हो चुके हैं, एक पल में सबकुछ गंवा देने के लिए? अगर नहीं, तो अपने दिलो-दिमाग़ पर एक बार ज़ोर डाल के देखिए, क्योंकि कुछ तो है, जो सामान्य नहीं है। जिस वजह से हम ऐसी शहादत को इतनी आसानी से भुला देते है ।


Advertisement

अगर आप यही प्रश्न मुझसे पूछें कि अल्ताफ़ के शहीद होने से मैने क्या खोया है तो मेरा जवाब होगा कि मैने एक उम्मीद खोई है। वही उम्मीद जो मुझे ‘अमन कश्मीर’ का सपना दिखाती है। एक विश्वास खोया है, जिससे मैं कश्मीरियों के हाथ में पत्थर  की जगह फूल देखता हूं। कुछ शब्द भी खोया हूं, जो उसकी वीरता, प्रशंसा और श्रद्धांजलि लिखने के लिए हमेशा ही कम पड़ जाते हैं।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Military

नेट पर पॉप्युलर