JNU में फिर दिखे कश्मीर की आजादी के पोस्टर, शिकायत के बाद हटाए गए

author image
Updated on 3 Mar, 2017 at 2:30 pm

Advertisement

दिल्ली का जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय एक बार फिर विवादों के घेरे में है। दरअसल, विश्वविद्यालय कैम्पर में कश्मीर की आजादी वाले पोस्टर फिर दिखाई दिए। इन पोस्टरों में कश्मीर की तुलना फिलस्तीन से की गई है, साथ कश्मीर की आजादी की बात भी कही गई है।

इन पोस्टरों के सामने आने के बाद एक बार फिर माहौल गरम हो गया है। हालांकि, बाद विश्वविद्यालय प्रशासन को मिली शिकायत के बाद इन पोस्टरों को हटा लिया गया।

बताया गया है कि वामपंथी छात्र संगठन DSU यानी डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन ने इस पोस्टर को लगाया था। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि ये पोस्टर सोशल साइंस के नए ब्लॉक की दीवार पर लगे दिखाई दिए।


Advertisement

इस संबंध में विश्वविद्यालय के अधिकारियों का कहना है कि छात्रों का एक छोटा समूह माहौल को खराब करने की कोशिशों में लगा हुआ है। इस वजह से विश्वविद्यालय प्रशासन का अधिकतर समय इस तरह के मामलों को निपटाने में बीत जाता है।

DSU संगठन लंबे समय से विश्वविद्यालय में सक्रिय रहा है। यह संगठन भारत को तोड़ने की वकालत करता है।

कैम्पस में देशविरोधी नारे लगाने के आरोपी उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य इसके सदस्य थे। पिछले साल उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य सरीखे छात्रों ने संसद हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी दिए जाने के खिलाफ विवादास्पद कार्यक्रम का आयोजन किया था। इस आयोजन में भारत के टुकड़े करने की बात कही गई, साथ ही कश्मीर की आजादी के समर्थन में नारे लगाए गए थे।

कथित छात्र नेता कन्हैया कुमार को भी इसी मामले में जेल भेजा गया था।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement