कुवांरी लड़कियों को करवा चौथ का व्रत रखते समय ध्यान रखनी चाहिए ये बातें

Updated on 25 Oct, 2018 at 12:52 pm

Advertisement

सुहागिनों के पर्व करवा चौथ को लेकर जहां सुहागिनों में उत्साह देखने को मिल रहा है। वहीं इसे लेकर बाजारों में भी चहल-पहल दिखाई दे रही है। ऐसी मान्यता है सुहागिनों के करवाचौथ वाले दिन वर्त रखने से उनके पति की दीर्घायु होती है। इस दिन सुहागिनें अपने सुहाग की रक्षा व दीर्घायु की कामना करने के लिए व्रत रखती हैं।

 

 


Advertisement

अमूमन शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं। लेकिन आजकल कुंवारियों में भी इस व्रत का चलन बढ़ गया है। लेकिन इससे जुड़ी एक उलझन कईयों के ज़हन में अभी भी है क्या ये व्रत सिर्फ़ शादीशुदा औरतें ही रख सकती हैं, कुंवारी लड़कियां नहीं।

 

ये व्रत कुंवारी लड़कियां कर सकती हैं लेकिन कुछ बातों का ख्याल रखना ज़रूरी है। उसके लिए ही ये व्रत रखें जिन्हें आप सच्चे मन से अपना जीवनसाथी मानती हों और उस शख्स के साथ ही शादी करने का फ़ैसला ले लिया हो।

 



साथ ही कुंवारी लड़कियां सुयोग्य वर की इच्छा से भी ये व्रत रख सकती हैं। बस ख्याल रहे वो चांद की जगह तारों को देखकर व्रत खोलें। कुंवारी लड़कियों को सीधे-सादे ढंग से व्रत रखना चाहिए। उन्हें बड़े आडंबर की जरूरत नहीं होती जैसा कि सुहागिनों को होता है। हां, ये चाहें तो सुहागिनों के साथ पूजा में शामिल होकर अपना व्रत पूरा कर सकती हैं। इन्हें चलनी में चांद देखने की ज़रुरत नहीं है।

 

 

यूं तो अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरीके से इस पर्व को मनाया जाता है, लेकिन सभी महिलाएं मेहंदी जरूर लगाती हैं। कुंवारी लड़कियां भी सुहागिनों की तरह मेहंदी लगाते हुए हाथ पर अपने प्रेमी या मंगेतर का नाम लिखवा सकती हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement