भाई के लिए भी रखा जाता है करवा चौथ का व्रत, महाभारत से जुड़ा है इसका कनेक्शन

Updated on 26 Oct, 2018 at 6:53 pm

Advertisement

अब तक तो हम सभी यही जानते हैं करवा चौथ का व्रत शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करती हैं, लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कई जगहों पर महिलाएं भाई के लिए भी ये व्रत रखती हैं और भगवान से उनकी रक्षा की प्रार्थना करती हैं। ये हैरान करने वाला तथ्य महाभारत काल से जुड़ा है।

 

कहा जाता है महाभारत काल में भाई के लिए आमतौर पर कुंवारी कन्याएं ये व्रत रखती थीं। करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को आता है। इस बारे में ज्योतिषियों की राय है लड़कियां अगर अपने भाई के लिए ये व्रत रखती हैं तो इसमें कोई बुराई नहीं है, बल्‍क‍ि इससे करवा माता का आशीर्वाद मिलता है।

 

 


Advertisement

प्रचलित कथा के मुताबिक, महाभारत काल में बहन अपने भाई के लिए करवाचौथ का व्रत रखती थी। कहा जाता है महाभारत की लड़ाई के दौरान जीत के लिए अस्त्र-शस्त्र इकट‍्ठा करने के लिए अर्जुन तपस्या करने नीलगिरी पर्वत पर गए थे, लेकिन जब लंबे समय तक अर्जुन नहीं लौटे तो परेशान द्रौपदी ने भगवान श्री कृष्ण को याद किया।

 

श्री कृष्ण ने द्रौपदी को करवा चौथ व्रत करने की सलाह दी और विधि भी बताई। द्रौपदी ने कृष्ण के बताए अनुसार ही करवाचौथ का व्रत रखा जिसके बाद अर्जुन सही सलामत लौट आये। श्री कृष्ण को द्रौपदी अपना मित्र और भाई मानती थी। उनके कहने पर ही द्रौपदी ने ये व्रत किया और अर्जुन लौट आएं। इसकी के बाद से कुंवारी लड़कियां भाई की सलामती के लिए भी करवाचौथ का व्रत रखने लगीं। यहीं से भाई के लिए भी करवा चौथ का व्रत रखने की शुरुआत हुई।

 

 

आपको बता दें पति के लिए किया जाने वाला करवा चौथ का व्रत जहां चांद को देखकर खोला जाता है, वहीं भाई के लिए किए जाने वाले व्रत को लड़कियां तारे देखकर खोलती हैं और इस व्रत में लड़कियां महिलाओं की तरह सजती-संवरती भी नहीं है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement