कर्नाटक के इस गांव के लोग फिल्में नहीं देखते, लेकिन आलिया भट्ट उनके लिए स्टार है

Updated on 22 Jul, 2018 at 9:02 pm

Advertisement

आलिया ने बेहद कम समय में बतौर अभिनेत्री खुद को साबित किया है और एक अपनी जगह कायम की है। फिल्म दर फिल्म उनके अभिनय में निखार देखने को मिलता है और ये बेहद अच्छी निशानी है। ऐसे में उन्हें अब एक स्टार की तरह देखा जाने लगा है। लेकिन सोचिए कि अगर कोई उनकी फिल्म ही न देखता हो या फिर बॉलीवुड के बारे में भी कोई ख़ास जानकारी नहीं रखता हो, ऐसे लोगों के लिए भी आलिया स्टार हो सकती हैं?

जाहिर है जवाब ‘नहीं’ में होगा लेकिन माजरा थोड़ा हटके हैं!

 

कर्नाटक के मांड्या जिले के केआर पेट तालुक के किक्केरी गांव में रहने वाले ऐसे लोगों के लिए आलिया स्टार से भी बढ़कर हैं जिन्होंने इनकी फ़िल्में भी नहीं देखी हैं। अब आप सोचते होंगे कि आखिर ऐसा कैसे संभव है तो हम बता ही देते हैं! दरअसल आलिया भट्ट की पहल पर इस गांव में पहली बार बिजली पहुंच सकी है। इस गांव के लोग सालों से रोशनी की बाट जोह रहे थे लेकिन आलिया भट्ट ने अजाला कर दिया है।


Advertisement

 

आलिया भट्ट की पहल ‘मी वॉर्डरोब इज सू वॉर्डरोब’ (मेरा वॉर्डरोब आपका वॉर्डरोब है) के तहत अभियान चलाया जा रहा है। इसके द्वारा इस गांव में सोलर लाइट लगाई गई है। गांव के लोग सालों से बिजली की बाट जोह रहे थे और प्रयास करते हुए थक-हार गए थे। आलिया की संस्था ने स्थानीय एनजीओ की मदद से सोलर लाइट लगवाकर गांव को रौशन कर दिया है।

गांव की ही जरीना बेगम (45) कहती हैं,

‘वे कभी शाम 6:30 बजे के बाद खाना खाने के बारे में सोच नहीं सकती थी। गांव में अंधेरा पसरा रहता था और बच्चे रात को पढ़ भी नहीं पाते थे। हम चाहते हैं कि आलिया यहां आकर देखें कि उन्होंने किस प्रकार हमारे जीवन को बदल दिया है।’

langimg.com


Advertisement

वाकई इस प्रयास के लिए आलिया की जितनी तारीफ़ की जाय कम है!

आपके विचार


  • Advertisement